बीते शुक्रवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश के मस्जिदों में एक शख़्स द्वारा अज़ान दिए जाने की इजाज़त दी है. कोविड-19 लॉकडाउन के दौर में कोर्ट ने ये फ़ैसला सुनाया है. 

जस्टिस शशि कांत गुप्ता और जस्टिस अजीत कुमार ने कहा कि

'अज़ान मुस्लिम धर्म में ज़रूरी हो सकता है लेकिन लाउडस्पीकर या अन्य डिवाइस किसी धर्म का अहम हिस्सा नहीं है.'  

Source: Rediff

कई याचिकाओं के जवाब में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने अपना फ़ैसला सुनाया है. गाज़ीपुर के सांसद, अफ़ज़ल अंसारी, कांग्रेस नेता सलमान ख़ुर्शीद ने भी याचिकाएं दायर की थी. 

Indian Express की रिपोर्ट के अनुसार, पीठ ने बात साफ़ कर दी कि किसी भी हालत में रात 10 बजे से सुबह 6 बजे के बीच लाउडस्पीकर या अन्य डिवाइस चलाने की अनुमति देना ग़ैर-क़ानूनी है.