अलवर गैंगरेप मामले में पुलिस ने पांचों आरोपियों को गिरफ़्तार कर लिया है. पुलिस पहले ही तीन आरोपियों को गिरफ़्तार कर चुकी थी. जबकि गुरुवार को पांचवें और आख़िरी आरोपी हंसराज गुर्जर को भी गिरफ़्तार कर लिया गया है. पुलिस ने 8 मई को चौथे आरोपी महेश गुर्जर को गिरफ़्तार किया था.

Source: thelallantop

दरअसल, ये घटना 26 अप्रैल की बताई जा रही है. पुलिस पर आरोप है कि लोकसभा चुनावों के चलते इस मामले को दबा दिया गया. इसके बाद दलित समुदाय के विरोध प्रदर्शन के बाद आखिरकार 2 मई को इस मामले में कार्रवाई हुई.

Source: oddnaari

मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए लापरवाही बरतने के आरोप में थानागाज़ी के एसएचओ सरदार सिंह समेत 4 पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया गया. जबकि अलवर के एसपी राजीव पार्चर का ट्रांसफ़र कर दिया गया.

Source: patrika

इस मामले में सबसे अच्छी बात ये रही कि दलित समुदाय और मीडिया ने इसे ज़ोर-शोर से उठाया. अगर ऐसा नहीं होता तो शायद ही इस मामले में कोई कार्रवाई हो पाती.

Source: bbc.com

ये घटना राजस्थान के अलवर ज़िले की है. जहां कुछ युवक मोटर साईकल से बाज़ार जा रहे एक दलित दंपती का रास्ता रोक कर उन्हें किसी सुनसान जगह पर ले गए. इसके बाद इन हैवानों ने पति के सामने ही महिला के साथ बारी-बारी से 3 घंटे तक सामूहिक बलात्कार किया.

Source: patrika

इस दौरान इन आरोपियों ने घटना के 11 वीडियो भी बना लिए थे. इन वीडियोज़ के सहारे ये आरोपी इस दंपत्ति से पैसे की मांग कर रहे थे. बार-बार पैसे की मांग करने के बाद जब इस दंपत्ति ने पैसे नहीं दिए तो आरोपियों ने घटना का वीडियो वायरल कर दिया. बस यहीं से इस मामले ने तूल पकड़ना शुरू कर दिया था.