सोनू सूद... पैंडमिक में ये नाम घर-घर पहुंच गया है. लोगों तक राहत पहुंचाने में ये बंदा सबसे आगे है.

सोनू ने सैंकड़ों प्रवासी मज़दूरों को अपने-अपने घर भेजा, आर्थिक मदद की और अब उन्हें नौकरी दिलवाने में जुटे हैं.

जो भी सोनू के पास मदद मांगता हुआ आता है सोनू उसकी हर संभव मदद करते हैं.

आंध्र प्रदेश में कुछ आदिवासियों ने आत्मनिर्भर बनते हुए सड़क बना ली. ज़िला Vizianagaram के Kodama- Bari गांव के आदिवासियों ने 4 किलोमीटर लंबी सड़क बना ली. अधिकारी इन ग्रामवासियों की समस्या को काफ़ी समय से नज़रअंदाज़ कर रहे थे और ग्रामीणों ने मामला अपने हाथों में ले लिया.

गांववालों की मेहनत पर सोनू का ध्यान गया और उन्होंने ट्विटर पर उनकी कहानी शेयर की. सोनू ने ये भी कहा कि वे इन गांववालों से जल्दी मिलेंगे.

अब ग्रामीणों ने सोनू सूद को पोस्टर लगाकर शुक्रिया कहा है.

हीरो वही होता है जो न सिर्फ़ ख़ुद अच्छा काम करे बल्कि दूसरों को भी प्रेरित करे.