रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ़ अर्नब गोस्वामी को बीते रविवार को अलीबाग जेल से तलोजा जेल शिफ़्ट किया गया.  

Source: Navbharat

The Economic Times की रिपोर्ट के मुताबिक़, गोस्वामी जुडिशियल कस्टडी में फ़ोन का इस्तेमाल करते हुए पाए गए, जिसके बाद उन्हें ज़िला रायगढ़ के ही दूसरे जेल में शिफ़्ट करने का निर्णय लिया गया. गोस्वामी को पहले अलीगढ़ जेल के लिए बनाए गए कोविड सेंटर में रखा गया था.  

रायगढ़ क्राइम ब्रांच ने पाया कि गोस्वामी किसी और के फ़ोन से सोशल मीडिया पर एक्टिव हैं. गोस्वामी का पर्सनल फ़ोन, पुलिस ने ज़ब्त कर लिया था. 

Source: Lokmat

तलोजा जेल के रास्ते में गोस्वामी ने पुलिस वैन से चिल्लाना शुरू किया और कहा कि बीते शनिवार रात को अलीबाग जेल के जेलर ने उसके साथ मार-पीट की है. गोस्वामी ने ये भी कहा कि उसकी ज़िन्दगी को ख़तरा है और उसे अपने वक़ील से भी बात करने नहीं दिया जा रहा.  

Source: Times of India

गोस्वामी की पत्नी और रिपब्लिक टीवी की सीनियर एक्जे़केटिव, साम्यब्रता राय गोस्वामी ने एक स्टेटमेंट जारी करते हुए कहा कि अर्नब को फंसाया जा रहा है और सारे चार्जेज़ फ़ेक हैं. 

स्टेटमेंट में साम्यब्रता ने कहा कि अर्नब बार-बार कह रहे थे कि जब अर्नब ने वक़ील से बात करवाने को कहा तब जेलर ने उनके साथ मार-पीट की, अर्नब को वक़ील से बात करने नहीं दिया गया. अर्नब हाथ जोड़कर सुप्रीम कोर्ट से अपील करते हैं कि वे मामले पर संज्ञान ले और उन्हें ज़मानत दिलवाएं.  

Source: Mumbai Press

 पूर्व बीजेपी सांसद कीर्ति सोमाया ने कहा कि वो तलोजा जेल के जेलर से मिलीं हैं और जेलर ने आश्वासन दिया है कि अर्नब को हैरेस नहीं किया जाएगा और उन्हें मेडिकल सुविधा भी दी जाएगी.