लगभग डेढ़ साल से वित्तमंत्री अरुण जेटली स्वास्थय की समस्या से जूझ रहे हैं. इस चीज़ को ध्यान में रखते हुए और प्रधानमंत्री को ध्नन्यवाद देते हुए उन्होंने एक औपचारिक पत्र लिखा, जिसमें उन्होंने गुज़ारिश की है कि वो अपनी नई कैबिनेट में उन्हें कोई पद न दें.

चार पैराग्राफ़ के अपने पत्र में अरुण जेटली ने लिखा है कि वो ये बात प्रधानमंत्री को चुनाव प्रचार के दौरान भी मौखिक रूप से बचा चुका थे कि वो भाजपा की नई सरकार का हिस्सा नहीं बनना चाहते और अपने इलाज को पूरा समय देने की इच्छा रखते हैं.

अपने पत्र में उन्होंने लिखा, 'मैं औपचारिक तौर पर आपको ये इसलिए लिख रहा हूं ताकि मुझे मेरे इलाज और स्वास्थय के लिए उचित समय दिया जाए. इसलिए वर्तमान में और नई सरकार में मैं किसी ज़िम्मेदारी का हिस्सा न बनूं.'

बता दें कि नया मंत्रीमंडल अपने तय समय पर कल शपथ ग्रहण करेगा.