बिहार मे एनआरसी लागू नहीं करने का प्रस्‍ताव विधानसभा में सर्वसम्‍मति से पारित हो गया है. इसके साथ ही बिहार ऐसा करने वाला एनडीए का पहला राज्य बन गया है. इसे मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार का मास्‍टर स्‍ट्रोक माना जा रहा है. क्योंकि उन्होंने एक तीर से दो शिकार किये हैं.

Source: news18

बीते मंगलवार को बिहार विधानसभा के बजट सत्र के दूसरे दिन NRC और NPR के मुद्दे को लेकर सदन में ज़ोरदार हंगामा हुआ. इस दौरान बीजेपी के मंत्रियों व विधायकों ने ऐसा मोर्चा संभाला कि नौबत हाथापाई तक की आ गई. बावजूद इसके सीएम नीतीश कुमार ने बीजेपी विधायकों की मौजूदगी में ही विधानसभा में सर्वसम्‍मति से बिहार में NRC लागू नहीं करने के प्रस्ता़व को पारित करा लिया.

Source: livemint

नीतीश कुमार पहले भी कई बार कह चुके थे कि बिहार में एनआरसी किसी हाल में लागू नहीं होने देंगे. आख़िरकार नितीश ने जो कहा था वो करके भी दिखा दिया है.

अब इसे हर कोई मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का मास्‍टर स्‍ट्रोक कह रहा है. इसके साथ ही नितीश ने बीजेपी के साथ होने के बावजूद उनके सबसे बड़े मुद्दे की हवा निकाल दी है. इसके साथ ही बिहार में NRC का विरोध कर विपक्ष का मुंह भी बंद कर दिया. बिहार ऐसा पहला राज्य बन गया, जहां बीजेपी के सरकार में रहने के बावजूद एनआरसी के ख़िलाफ़ प्रस्ताव पारित किया गया है.

Source: timesofindia

इस मुद्दे पर जब बीजेपी से पूछा गया तो उसने इस प्रस्‍ताव को महज सुझाव करार दिया.

इसके साथ ही बिहार सरकार ने NPR को 2010 के फ़ॉर्मेट पर लागू कराने का प्रस्ताव भी पारित कर लिया है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार विधानसभा में कहा कि प्रदेश सरकार ने केंद्र को एनपीआर के फ़ॉर्म में विवादित खंड को हटाने का निवेदन किया है. ज्ञात हो कि बिहार में भाजपा के समर्थन वाली जदयू सरकार है.

Source: newsnation

पश्चिम बंगाल ने पिछले साल ही एनआरसी के ख़िलाफ़ प्रस्ताव पारित किया था. इसके अलावा केरल, पंजाब और राजस्थान भी सीएए और एनआरसी के ख़िलाफ़ पहले से ही प्रस्ताव पारित कर चुके हैं.