मुंबई के एक हॉस्पिटल का वीडियो वायरल हुआ है, जिसने सोशल मीडिया पर लोगों का ग़ुस्सा भड़का दिया है. वीडियो में दिख रहा है कि मरीज़ों के बगल में कोरोना से मरने वालों की लाशें रखी गई हैं. ये वीडियो मुंबई के लोकमान्य तिलक हॉस्पिटल के कोरोना वायरस वॉर्ड का बताया जा रहा है. इस वीडियो को देखने के बाद बखूबी ये अंदज़ा लगाया जा सकता है कि कितनी बुरी हालत में कोरोना मरीज़ों और संदिग्धों को हॉस्पिटल में रखा जा रहा है.

Source: indiatoday

इस वीडियो को बीजेपी विधायक नितेश राणे ने ट्विटर पर शेयर किया है. इसमें दिख रहा है कि काली पॉलिथिन में लाशों को लपेटा गया है, साथ ही बगल में ही दूसरे बेड पर मरीज़ भी लेटे हैं. जिस वॉर्ड में 10 मरीज़ों का इलाज होता है, वहां, क़रीब 6 लाशें मरीज़ों के बेड के पास रखी हुई हैं.

बीजेपी विधायक ने लिखा, ‘ये मुंबई के अस्पतालों की हालत है. शवों के बगल में मरीज़ सो रहे हैं. ये अति है. ये कैसा एडमिनिस्ट्रेशन है बेहद शर्मनाक.’

लोकमान्य तिलक अस्पताल, सायन के डीन डॉ. प्रमोद इंगले ने एक बयान में कहा, अस्पताल प्रशासन के सामने शवों को उनके परिजनों को सौंपने की बड़ी चुनौती है, क्योंकि महामारी के बीच परिवारवाले शवों को ले जाना नहीं चाह रहे.

उन्होंने कहा, ‘वीडियो सायन हॉस्पिटल का लगता है. हमारे सामने चुनौती ये है कि परिजन शवों को ले जाने को तैयार नहीं हैं. आम तौर पर वो बॉडीज़ को सौंपने के लिए हमारे पीछे पड़े रहते हैं. कोरोना के मामलों में वो शव को लेने आगे नहीं आ रहे. जब तक हम शव को साफ़ करके बांधते हैं, तब तक परिजन गायब हो जाते हैं. हम ख़ुद से शवों को डिस्पोज़ नहीं कर सकते हैं. हमें मौत के बारे में स्थानीय पुलिस स्टेशन और चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी को सूचित करना होता है.’

पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने भी ट्वीट कर राज्य सरकार को आड़े हाथ लिया है. उन्होंने कहा, ‘सायन अस्पताल की घटना बेहद गंभीर और चौंकाने वाली है. जिन मरीज़ों का इलाज किया जा रहा है वे शवों के पास पड़े हैं. ये सरासर अमानवीय है. क्या मुंबई की देखभाल करने वाला कोई नहीं है? सरकार को तुरंत इस पर गौर करना चाहिए और ये सुनिश्चित करना चाहिए कि ये फिर कभी न हो!’

बता दें, महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामले देशभर में सबसे ज़्यादा हैं. राज्य में 16 हज़ार से ज़्यादा लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं. अकेले मुंबई में ही 10 हज़ार से ज़्यादा मरीज़ हैं. ऐसे में इस तरह की लापरवाही महामारी को और भी भयंकर रूप दे देगी.