दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाके में हुई हिंसक वारदातों में अब तक लगभग 42 लोगों की जान चुकी है. दंगाइयों ने न केवल लोगों की जान ली, बल्कि सैंकड़ों लोगों के घरों को भी ख़ाक कर दिया. इन्हीं में से एक घर खजूरी ख़ास में रहने वाले BSF जवान का भी था.

न्यूज़ 18 की एक ख़बर के मुताबिक, बीएसएफ़ के जवान मोहम्मद अनीस के घर को दंगाइयों ने 25 फ़रवरी को आग के हवाले कर दिया था. रिपोर्ट के मुताबिक, जब दंगाइयों ने उनके घर में जलता हुआ गैस का सिलेंडर फेंका तब वो कह रहे थे- 'इधर आओ पाकिस्तानी तुम्हें नागरिकता देते हैं.'

जिस वक़्त दंगाइयों ने अनीस के घर पर हमला किया उस समय घर में अनीस के पिता, चाचा और बहन मौजूद थे. घर में आग लगने के बाद वो किसी तरह वहां से जान बचाकर सेफ़ जगह पहुंचे. अनीस के पिता का कहना है कि वो सोच रहे थे शायद सरहद पर तैनात एक जवान के घर पर दंगाई हमला नहीं करेंगे.

Source: thelogicalindian

मगर दंगाइयों ने उन्हें ग़लत साबित कर दिया. उनका कहना है कि ये लोग बाहर से आए थे. उनके आस-पास के हिंदू भाइयों ने तो उन्हें घर में लगी आग को बुझाने और वहां से सुरक्षित निकलने में मदद की थी. इस आग में अनीस के परिवार की सारी जमा पूंजी जलकर ख़ाक हो गई. उनके घर में आने वाले कुछ दिनों में दो शादियां थीं. एक अनीस की और दूसरी उनकी चचेरी बहन नेहा की. इसके लिए जमा की गई ज्वेलरी और कैश उस आग में जलकर राख हो गए.

Source: news18

न्यूज़ 18 की रिपोर्ट के अनुसार, 25 फरवरी को हुई हिंसा में खजुरी ख़ास इलाके में क़रीब 35 घरों को दंगाइयों ने जला दिया था. अब ख़बर आई है कि मुश्किल की इस घड़ी में बीएसएफ़ कार्यालय ने उनकी आर्थिक मदद की पेशकश की है. बताया जा रहा है कि बीएसएफ़ की तरफ से उन्हें 5 लाख रुपये का चेक दिया जाएगा.

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.