बॉर्डर सिक्योरिटी फ़ोर्स (बीएसएफ़) के जवानों ने 1971 युद्ध का विजय दिवस बड़े ही अनोख़े अंदाज़ में मनाया. 

Hindustan Times की रिपोर्ट के अनुसार, बीएसएफ़ के जवानों ने 13-14 दिसंबर की मध्य रात्रि को 180 किलोमीटर की रिले रेस की.  

ये रिले रेस खाजूवाला की कावेरी सीमा चौकी से शुरू हुई और अनूपगढ़ की कैलाश चौकी पर ख़त्म हुई. 180 किलोमीटर की दूरी को 11 घंटे से भी कम समय में तय किया गया. 

मिनिस्टर ऑफ़ स्टेट फ़ॉर यूथ अफ़ेयर्स ऐंड स्पोर्ट्स, किरण रिजिजू ने भी ट्वीट कर रेस में हिस्सा लेने वाले जवानों की तारीफ़ की.

'बीएसएफ़ ने 1971 युद्ध के वीरों का अपने अंदाज़ में सम्मान किया. 930 बीएसएफ़ लड़के और लड़कियों ने मध्य रात्रि में अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर पर 180 किलोमीटर की बेटन रिले रेस 11 घंटे से कम समय में पूरी की.'

ये रेस विजय दिवस सेलिब्रेशन 2020 का हिस्सा थी. एक रिपोर्ट के अनुसार इस रेस में 500 जवानों और अफ़सरों ने हिस्सा लिया और बिकानेर सेक्टर का हर बीएसएफ़ जवान 400-500 मीटर दौड़ा.

इस रेस को डीआईजी पुश्पेंद्र सिंह ने अंतर्राष्ट्रीय बॉर्डर पर झंडी दिखाई. इस प्रोग्राम में यूनियन जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह चीफ़ गेस्ट थे.   

भारत और पाकिस्तान के बीच 3 दिसंबर 1971 से 16 दिसंबर 1971 तक यूद्ध चला था और इस युद्ध में भारत की जीत की इस साल 50वीं सालगिर है.