रविवार शाम जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में छात्रों पर हुए हमले से हर कोई आहत है. बताया जा रहा है कि इस दौरान 50 से अधिक की संख्या में कुछ नक़ाबपोश लोग यूनिवर्सिटी कैंपस में घुस आए और छात्रों पर लाठी-डंडों से हमला कर दिया.

Source: amarujala

इस हमले में घायल 35 छात्रों को एम्स व सफ़दरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया है. आज सुबह एम्स व सफ़दरजंग में भर्ती सभी छात्रों को छुट्टी दे दी गई.

Source: scroll

आज सुबह ही जेएनयू के रजिस्ट्रार व वीसी ने एलजी अनिल बैजल से मिलकर उन्हें स्थिति की पूरी जानकारी दी है. वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस मामले को निंदनीय बताया है.

इस मामले को लेकर मुंबई, पुणे, कोलकाता और कर्नाटक समेत देश के कई हिस्सों में बड़ी संख्या में छात्र सड़कों पर उतर आए हैं.

राजनीति से लेकर बॉलीवुड तक हर कोई इस घटना को लेकर नाराज़गी व्यक्त कर रहा है.

हालांकि, इस मामले में पुलिस ने अब अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कर ली है. पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी और सोशल मीडिया को जांच का आधार बनाया जाएगा. अब जेएनयू हिंसा की जांच क्राइम ब्रांच करेगी.