अपने जीवन में परिवर्तन लाने और एक नई राह पर चलने के लिये बुड़ैल जेल के कैदी काफ़ी कुछ नया कर रहे हैं. यही नहीं, लोगों को इन कैदियों का काम इतना पसंद आ रहा है कि 2-4 दिन में ही मार्केट में उनके काम की भारी डिमांड बढ़ गई है.

Source: Dailypost

रिपोर्ट के अनुसार, बीते गुरुवार को चंडीगढ़ के सेक्टर-22 में 'श्रीजन' नामक दुकान का उद्धाघटन किया गया, जहां कैदियों द्वारा बनाई गई चीज़ें बेची जा रही हैं. शॉप की ओपनिंग के सिर्फ़ दो दिन हुए थे कि जेल के कैदियों द्वारा बनाये गये सामान से 17 हज़ार रुपये की इनकम हो गई. यही नहीं, महज़ दो दिन में ये दुकान बाज़ार की सबसे लोकप्रिय लैंडमार्क बन गई.

वहीं मीडिया से बातचीत करते हुए दुकान के प्रबंधक अंकित गर्ग ने कहा कि दुकान को ये लोकप्रियता सिर्फ़ मिठाईयों से मिली है, जबिक उन्होंने अब तक फ़र्नीचर बेचना शुरू भी नहीं किया. हांलाकि, फ़र्नीचर की ऑनलाइन बुकिंग शुरू हो चुकी है. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि बड़ी संख्या में लोग दुकान में आ रहे हैं. दुकान की मिठाईयां बाज़ार से 30 प्रतिशत कम दाम पर बेची जा रही हैं. इन मिठाईयों की ख़ास बात ये है कि ये ताज़ा दूध से बनी होती हैं, वो भी बिना किसी मिलावट के. वहीं यहां की गर्मागर्म जलेबी लोगों को ख़ूब पसंद आ रही हैं.

Source: Amar Ujala

बताया जा रहा है कि मिठाईयां बनाने के लिये 30 कैदी काम पर लगे हुए हैं, जबकि फ़र्नीचर बनाने के लिये 100 कैदी हैं. इस काम के बदले प्रत्येक कैदी को हर दिन 60 से 80 रुपये दिये जाते हैं.

बता दें कि बुडै़ल जेल का संचालन Vocational Institute, Prisoners Training and Welfare Society द्वारा किया जा रहा है.