दिवाली आ ही गई है और बग़ैर मिट्टी के दीपक के दिवाली अधूरी सी लगती है. आज भले ही LED लाइट्स ने हमारे घर में पक्की जगह बना ली है पर नामभर के लिए ही सही दीये आज भी जलाए जाते हैं.

मिट्टी के दिये के साथ एक दिक्कत होती है, उसमें तेल जल्दी ही ख़त्म हो जाता है. फिर या तो आप उसे ऐसे ही छोड़ देते हैं या फिर बार-बार तेल भरना पड़ता है.   

Source: ANI

छत्तीसगढ़ के ज़िला बस्तर, गांव कोंडागांव के एक शख़्स इस समस्या का हल निकाल लिया है. एक रिपोर्ट के मुताबिक़, अशोक चक्रधारी ने एक ऐसा दिया बनाया है जो कम से कम 24 घंटों तक जलता रहेगा.

अशोक का कहना है कि YouTube वीडियो देखकर उसने इस दिये को वो पिछले साल भी बनाने की कोशिश की थी

Source: The Better India
मैं हमेशा नए Ideas की तलाश करता हूं जो मेरे कुम्हार कला को चुनौति दे सके. 2019 में दिवाली से पहले मैं दिये के नये डिज़ाइन देख रहा था. तब मुझे ऐसा दिया मिला जिसके ऊपर तेल जमा करने की डिबिया थी, जिससे तेल गिरता रहे और दिया न बुझे. मुझे वो बेहद दिलचस्प लगा और मैंने उसे बनाने की ठान ली

                    - अशोक चक्रधारी

Source: The Better India

बहुत से लोग अशोक द्वारा बनाए गए दिये को 'जादुई दिया' भी कह रहे हैं.

कई वीडियोज़ देखने के बाद, अशोक ने 3 अलग हिस्सा बनाए. पहला हिस्सा था दीपक, दूसरा तेल रखने के लिए गुंबद जैसा ढांचा और तीसरे एक ट्यूब जिससे दीपक के ऊपर तेल जमा रखने के गुंबद को टिकाया जा सके. ट्यूब का एक छोर खुला हुआ है जो दीये में फ़िट किया गया है. इस पूरी संरचना में एक हैंडल भी है 

ये बनाने के लिए मुझे 5-6 बार कोशिश करनी पड़ी पर एक हफ़्ते में मुझे सफ़लता मिल गई. कभी तेल रखने वाला गुंबद भारी हो जाता और दिये पर गिर जाता पर ग़लती करते-करते ही सही चीज़ बन गई. मैंने तेल भरकर और दिया जलाकर इसे टेस्ट किया है. 

                    - अशोक चक्रधारी

Source: ANI

अशोक ने बताया कि उसे ये नहीं पता कि कितना तेल लगेगा पर उसे इतना पता है कि दिया एक बार में 24 घंटे जल सकता है. बस दिये की बाती को समय-समय पर बदलना पड़ेगा.

अशोक ने बताया कि पिछली दिवाली पर उसने 100 दिये बेचे थे. इस साल दुर्गा पूजा पर उसने 200 रुपये में एक दिया बेचा और 100 के लगभग बिक्री की. फ़ेसबुक पर वीडियो शेयर करने के बाद अशोक को कई दोस्तों और उनके परिवारों ऑर्डर मिले. अशोक का कहना है कि वीडियो वायरल होने के बाद देशभर से 200 से ज़्यादा कॉल आ चुके हैं.  

Source: ANI
कोई 1000 दिये का ऑर्डर दे रहा था तो कोई मुझे 5 या उससे कम दीये कुरयिर करने को कह रहा था. मुझे सभी ऑर्डर मना करने पड़े क्योंकि मैं देशभर में दीये सप्लाई नहीं कर सकता. ये दीये बेहद नाज़ुक हैं और ट्रांसपोर्टेशन में टूट सकते हैं. क्योंकि लोगों की तरफ़ से इतने सकारात्मक जवाब मिले है इसलिए मैं सुरक्षित रूप से दीये भिजवाने का कोई उपाय निकालूंगा.

                    - अशोक चक्रधारी

अशोक के इस नायाब दीये हम तक भले न पहुंचे पर हम ये आर्टिकल शेयर करके उसकी कहानी लोगों तक ज़रूर पहुंचा सकते हैं.