शेफ़ विकास खन्ना की गिनती दुनिया के टॉप 10 शेफ़ में होती है. उन्हें Michelin Star Chef अवॉर्ड से भी सम्मानित किया गया है. लॉकडाउन में उन्होंने 90 लाख खाने के पैकेट का वितरण ज़रूरतमंदों में किया था. अब वो दुनिया की सबसे बड़ी भोजन वितरण योजना शुरू करने जा रहे हैं. 

विकास खन्ना ने लॉकडाउन में 125 शहरों के प्रवासी मज़दूरों और दूसरे ग़रीब लोगों में 90 लाख खाने के पैकेट वितरित किए थे. इनमें पके हुए खाने से लेकर राशन तक शामिल था. उन्होंने न्यूयॉर्क में बैठे-बैठे एक तंत्र विकसित किया और लोगों राशन पहुंचाया.

Vikas Khanna
Source: tribuneindia

विकास खन्ना ने बताया कि इस नेक काम की शुरूआत एक फ़र्जी ईमेल से हुई थी. उन्होंने बताया कि किसी ने फ़ोन पर उनको एक फ़ोटो भेजी थी और एक वृद्धाश्रम को रुपये दान करने को कहा था. उन्होंने पैसे भेज दिए मगर बाद में पता चला कि उनके साथ धोखा हुआ.

लेकिन इसने विकास खन्ना का ध्यान लॉकडाउन में खाने के लिए परेशान लोगों की और खींच लिया. फिर उन्होंने न्यूयॉर्क में बैठे-बैठे ही उनकी मदद करनी शुरू कर दी. इसके लिए उन्होंने फ़ूड स्टोर्स और ट्रक ड्राइवर्स से संपर्क किया. इस काम में विकास खन्ना की मदद National Disaster Response Force (NDRF) और मुंबई की एक संस्था Maximus Collabs ने की.

Vikas Khanna on conducting 'world's largest food drive
Source: yourstory

इनके साथ मिल कर विकास ने पिछले ढाई महीनों में वाराणसी, बेंगलुरु, मंगलुरु, कोलकाता और मुंबई समेत 125 शहरों में भोजन के 9 मिलियन से अधिक खाने के पैकट बांटे. अब विकास खन्ना दिल्ली-एनसीआर में दुनिया की सबसे बड़ी भोजन वितरण योजना शुरू कर रहे हैं. इसका नाम ‘बरकत’ है. इस योजना के तहत एक दिन में 20 लाख से अधिक फ़ूड के पैकेट वितरित किए जाएंगे.

Vikas Khanna
Source: economictimes

इस योजना में दिव्यांग, ट्रांसजेंडर, अनाथ लोग और सेक्स वर्कर्स तक पहुंचने का उद्देश्य रखा गया है. विकास ने इस बारे में बात करते हुए कहा- “मैं बिना थके एक आयोजन के लिए काम कर रहा हूं. इस पूरे अभियान से मुझे इतनी ख़ुशी मिली है जितनी Michelin Star Chef अवॉर्ड मिलने पर भी नहीं हुई थी. इस संतुष्टि के सामने ये अवॉर्ड भी कुछ नहीं है. इसके ज़रिये हम उन आश्रय गृहों में भी जाएंगे जहां लोग अपने मां-बाप को छोड़ आते हैं. मैं समझ नहीं पाता कि लोग अपने मां-बाप को कैसे छोड़ सकते हैं.” 

Vikas Khanna
Source: ichowk

विकास खन्ना ने ये भी बताया कि एक बार जब उनके द्वारा भेजा गया राशन का ट्रक कहीं गायब हो गया था, तब उनका हौसला टूट गया था. लेकिन उनकी मां ने उन्हें हिम्मत न हारने की सलाह दी और इस नेक काम को जारी रखने के लिए प्रेरित किया.

इस नई योजना के तहत बुधवार यानि आज से ही एनडीआरएफ़ की टीम दिल्ली-एनसीआर में 10 हज़ार से अधिक फ़ूड के पैकेट बांटेगी. उन्होंने ये भी बताया कि इस मुहिम में कई कॉर्पोरेट वर्ल्ड के लोग भी मदद कर रहे हैं. जैसे इंडिया गेट फ़ूड, पतंजली, दावत राइस. 

Vikas Khanna
Source: enavabharat

योजना में योगदान करने के लिए राशन कुन्नूर, कच्छ, इंदौर और मुंबई जैसी जगहों से आ रहा है. आपकी जानकरी के लिए बता दें कि विकास खन्ना ने बिहार और उत्तर प्रदेश में सीआरपीएफ़ और एनडीआरएफ़ के साथ मिलकर श्रमिक ट्रेनों में पके हुए खाने और पानी की बोतल का भी वितरण करवाया था. 

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.