कोरोना संकट के बीच पिछले 20 दिनों से भारत-चीन के बीच लद्दाक व उत्तरी सिक्किम में नियंत्रण रेखा पर तनाव जारी है. दुनियाभर में कोरोना फैलाने के आरोप झेल रहे चीन ने ध्यान भटकाने के लिए अब भारत के लद्दाक में सीमा पर गश्त लगाना शुरू कर दिया है.

Source: theazb

बीते मंगलवार को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने संसद सत्र के दौरान 'पीपुल्स लिबरेशन आर्मी' और 'पीपुल्स आर्म्ड पुलिस फ़ोर्स' के प्रतिनिधियों की एक बैठक के दौरान सबसे ख़राब स्थिति की कल्पना करते हुए सेना को युद्ध की तैयारियां तेज़ करने के आदेश दिए हैं.

Source: outlookindia

बताया जा रहा है कि इस बैठक में शी जिनपिंग ने डिफ़ेंस में साइंटिफ़िक इनोवेशन पर ज़ोर देते हुए कहा कि क्षा बजट का एक-एक पैसे का इस्तेमाल इस तरह किया जाना चाहिए कि अधिक से अधिक नतीजे मिल सकें. इससे पहले 22 मई को चीन ने अपना रक्षा बजट 6.6% बढ़ाकर 179 अरब डॉलर कर दिया, जो भारत के रक्षा बजट का क़रीब तीन अधिक गुना है.

Source: ndtv

बता दें कि चीन ने पिछले कुछ दिनों में लद्दाख और उत्तरी सिक्किम में नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास सैनिकों की संख्या बढ़ा दी है. चीन की सेना ने भारतीय इलाक़ों में घुसपैठ कर अस्थाई ठिकाने भी बनाए हैं। इससे दोनों देशों की सेनाओं के बीच तनाव बढ़ रहा है। इस महीने तीन बार सैनिकों की झड़प भी हो चुकी है.

Source: 24newshd

प्रधानमंत्री मोदी ने हाईलेवल मीटिंग इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार रात एक हाईलेवल मीटिंग बुलाई. इस बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, एनएसए अजीत डोभाल, सीडीएस बिपिन रावत और तीनों सेना प्रमुख शामिल हुए. इसके बाद पीएम मोदी ने विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला से भी चर्चा की.

Source: hindustantimes

इस मीटिंग से पहले लद्दाख में बढ़ते तनाव को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की सीडीएस व तीनों सेनाओं के प्रमुखों से क़रीब 1 घंटे की मीटिंग हुई थी.