दिल्ली वालों! फेफड़े भर भरके सांस ले लो क्योंकि दिल्ली में ऐसी साफ़-सुथरी हवा पिछले 9 साल में पहले कभी न थी. Pollution Control Committee के आंकड़ों के हिसाब से सितंबर के महीने में दिल्ली की हवा पिछले 9 साल में सबसे साफ़ है.

Source: The Statesman

TOI के रिपोर्ट के अनुसार साल 2011 से 2019 के बीच PM2.5 और PM10 का औसत स्तर पहली बार सुरक्षित स्टैंडर्ड की श्रेणी में है. प्रति क्यूबिक मीटर PM10 का स्तर 99 माइक्रोग्राम और PM2.5 का स्तर 40 माइक्रोग्राम दर्ज किया गया. हालात पिछले साल के सितंबर से थोड़ी और बेहतर हुई है.

DPCC एयर डिविज़न के मोहन जॉर्ज ने कहा, 'इस सितंबर में Meterological Condition की वजह से हालात बेहतर हुए है लेकिन अगर आप 2015 से ट्रेंड के देखेंगे तो हर साल आपको सुधार दिखेगा.'

Source: The Hindu

मोहन जॉर्ज ने आगे कहा कि साल 2015 में प्रदूषण अपने उच्चतम स्तर पर था. उसके बाद ज़मीनी स्तर पर किया गया काम असर दिखा रहा है. ये नियम को तोड़ने वालों को मौक़े पर दंडित करने और बाकी संस्थाओं द्वार किए गए काम का परिणाम है.

सितंबर 2015 में प्रति क्यूबिक मीटर में 239 माइक्रोग्राम PM10 और PM2.5 72 माइक्रोग्राम पाए गए थे. तब से अबतक में PM10 में 58% और PM2.5 में 44% गिरावट दर्ज की गई है.

बता दें कि Central Pollution Control Board द्वार जारी आंकड़ों के हिसाब से Air Quality Index के आंकड़ों में भी सुधार देखा गया 2019 सितंबर में इसका आंकड़ा 98 रहा. जो पछले पांच साल में पहली बार 100 के नीचे आया है.