इंग्लैंड में रहने वाली तरन कौर ढिल्लो, जो अपने स्टेज नेम 'हार्ड कौर' से ज़्यादा फ़ेमस है, के ऊपर भारतीय डंड सहिता कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है. क्योंकि उन्होंने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के ऊपर सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी.

TOI के रिपोर्ट के अनुसार, वाराणसी के वकील शशांक शेखर ने IPC के धारा 124A, 153, 500, और 505 के तहत केस दर्ज कराया है. इससे 'हार्ड कौर' पर मानहानी, राजद्रोह, दो समुदाय के भीत द्वेष बढ़ाने के मुकदमा बनता है. साथ ही साथ, 'हार्ड कौर' पर IT Act का सेक्शन 66 भी लगाया गया है. रिपोर्ट के अनुसार, वकिल शशांक शेखर RSS के सदस्य हैं.

'हार्ड कौर' ने अपने फ़ेसबुक और इंस्टाग्राम पेज पर योगी आदित्यनाथ के बारे में बात करते हुए उन्हें 'Rapeman' कहा था और हेमंत करकरे की मौत के लिए RSS को दोषी ठहराया था.

एक दूसरे पोस्ट में मोहन भागवत को उन्होंने पुलवामा अटैक और अन्य आतंकी जुर्म के लिए गुनहगार बताया था.

शेखर ने अपने शिकायत में कहा कि वो 'हार्ड कौर' की टिप्पणी से 'Deeply Hurt' हुए हैं.

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस इंस्पेक्टर ने मामले की जांच के लिए Crime Branch के निगरानी विभाग को केस सौंप दी गई है.

इस विवाद के शुरू होने के बाद, सिंगर ने एक और वीडियो फ़ेसबुक पर अपलोड की है, जिसमें संविधान के अधिकारों का हवाला दिया गया है.

बता दें कि 'हार्ड कौर' देश-विदेश में अपने पंजाबी और इंग्लिश रैप गोनों के लिए मशहूर हैं.