भारत में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. कोरोना मरीज़ों की संख्या के मामले में भारत विश्व में दूसरे नंबर पर पहुंच गया है. देश में कोरोना मरीज़ों की कुल संख्या 4,208,645 हो गई है, जबकि 71,711 लोग इस वायरस के कारण अपनी जान गंवा चुके हैं. भारत में अब भी 8.87 लाख एक्टिव केस हैं, जबकि 32.51 लाख मरीज़ ठीक हो चुके हैं.

Source: economictimes

पिछले 24 घंटे में देशभर में कोरोना को लेकर क्या-क्या हुआ ये रही पूरी जानकारी-

1- पिछले 24 घंटे में कोरोना के रिकॉर्ड 91,723 मरीज़ सामने आए. इस दौरान 1,016 मरीज़ों की मौत भी हुई. इससे पहले 5 सितंबर को 90,600 मरीज़ सामने आए थे.

2- महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में सबसे अधिक 23, 350 मरीज़ सामने आए, राज्य में अब कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 9 लाख के पार हो गई है, जो देशभर में सर्वाधिक है.

Source: newindianexpress

3- कोरोना संकट के बीच आज से देशभर में मेट्रो दौड़ने लगी. राजधानी दिल्ली में पूरी सतर्कता के साथ 169 दिनों बाद मेट्रो का संचालन किया गया.

Source: ndtv

4- इंडियन काउंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च (ICMR) नेकोरोना वायरस सीरो सर्वे के दूसरे दौर की शुरुआत कर दी है. इससे ये भी पता चलेगा कि कितने लोगों में कोरोना एंटीबॉडी मौजूद है.

5- कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में कोरोना वायरस के फिर से संक्रमण का एक मामला सामने आया है. 27 साल की एक महिला में ठीक होने के बाद फिर से कोरोना के संक्रमण की पुष्टि हुई है.

Source: newindianexpress

6- दिल्ली एम्स के अंदर अब मास्क नहीं पहनने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने और थूकने पर जुर्माना. पहली बार नियम की अनदेखी करने पर 500 रुपये जबकि दूसरी बार ऐसा करने पर 1000 रुपये वसूला जाएगा.

7- मध्यप्रदेश में जो कोरोना मरीज़ आयुष्मान योजना में पंजीकृत नहीं हैं और राज्य सरकार से अनुबंधित किसी कोविड केयर अस्पताल में भर्ती हैं, तो इसे मरीज़ों के इलाज का पूरा खर्च राज्य सरकार देगी.

Source: outlookindia

8- राजस्थान में आज से 171 दिन बाद सभी धार्मिक स्थल खुल गए हैं. कोरोना संक्रमण के कारण 6 से बंद पुष्कर का विश्व विख्यात 'ब्रह्मा मंदिर' और 'अजमेर दरगाह' के द्वार भी खोल दिए गए हैं.

9- हरियाणा में 8 प्रतिशत लोगों में पाई गईं COVID-19 से लड़ने वाली एंटीबॉडी, राज्य में फ़रीदाबाद-गुरुग्राम सबसे अधिक प्रभावित शहर.

Source: livehindustan

10- रिसर्च का दावा कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने में कपड़े के मास्क बेहद कारगर साबित हो रहे हैं. घर में बने कपड़े के मास्क 99.9 फ़ीसदी संक्रमित सूक्ष्म बूंदों के प्रसार को रोकने में कारगर हैं, जबकि सर्जिकल मास्क 100 फ़ीसदी तक ऐसी बूंदों के प्रसार को रोकने में कारगर होते हैं.