प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कोरोना वायरस के ख़तरे और बचाव को लेकर राष्ट्र को संबोधित किया. इस दौरान पीएम मोदी ने देश की जनता से संकट की इस घड़ी में संयम बरतने की अपील की.

Source: livemint

आईये जानते हैं प्रधानमंत्री मोदी जी ने देश कोरोना वायरस को लेकर क्या-क्या कहा-

- इस रविवार यानि कि 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को 'जनता कर्फ़्यू' का पालन करें. ऐसे में लोगों को घर से बाहर निकलने से बचना होगा. सिर्फ़ आवश्यक सेवाओं वाले लोग ही बाहर निकलें.

- मेरा देश की जनता से एक और आग्रह है, वो ये कि हमारे परिवार में जो भी सीनियर सिटिजन्स 65 वर्ष की आयु के ऊपर के व्यक्ति हैं, वो आने वाले कुछ सप्ताह तक घर से बाहर बिलकुल भी न निकलें.

- देशवासियों को इस बात के लिए भी आश्वस्त करता हूं कि सरकार देश में दूध, खाने-पीने का सामान, दवाइयां, जीवन के लिए ज़रूरी ऐसी आवश्यक चीजों की कमी ना हो, इसके लिए तमाम कदम उठाए जा रहे हैं, इसलिए ख़रीददारी की होड़ न करें.

- संकट की इस घड़ी में आपको ये भी ध्यान रखना होगा कि हमारी आवश्यक सेवाओं यानि कि हॉस्पिटलों पर निरंतर दबाव बढ़ रहा है. इसलिए मेरा आपसे ये आग्रह है कि रुटीन चेक-अप के लिए अस्पताल जाने से जितना बच सकते हैं, उतना बचने की कोशिश करें.

- 22 मार्च को रविवार के दिन शाम 5 बजे सभी देशवासी को अपने घर के दरवाज़े, बालकनी और खिड़कियों के सामने खड़े होकर 'कोरोना सेनानियों' का हौसला बढ़ाने हेतु 5 मिनट तक उनके के लिए ताली, थाली और घंटी बजाएं.

-अगर हो सके हो हर व्यक्ति प्रतिदिन कम से कम 10 लोगों को फ़ोन करके कोरोना वायरस से बचाव के उपायों के साथ ही 'जनता कर्फ़्यू' के बारे में भी बताएं. 'जनता कर्फ़्यू' एक प्रकार से भारत के लिए एक कसौटी की तरह होगा.

- संकट के इस समय में मैं इस देश के व्यापारी और उच्च वर्ग से अपील करना चाहता हूं कि वो इंसानियत के नाते अपने कर्मचारियों की सैलरी न काटें. क्योंकि आपकी तरह ही उन्हें भी अपने परिवार का पेट पालना है.

-कोरोना वायरस ने पूरी मानव जाति को संकट में डाला है. इसलिए मेरा लोगों से अपील है कि वो इसे हल्के में न लें. इस संकट से मुक़ाबला करने के लिए संकल्प और आवश्यक है.

- वैश्विक महामारी कोरोना से निश्चिंत हो जाने की ये सोच सही नहीं है. इसलिए, प्रत्येक भारतवासी का सजग और सतर्क रहना बेहद आवश्यक है.

- हमें ये संकल्प लेना होगा कि हम ख़ुद भी संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी संक्रमित होने से बचाएंगे. इस तरह के वैश्विक संकट के समय एक ही मंत्र काम करता है- हम स्वस्थ तो जग स्वस्थ.

- इस महामारी ने आज दुनिया के सामने एक ऐसी स्थिति पैदा कर दी है जब वैज्ञानिक भी इससे बचने की कोई दवा तक नहीं बना पाए है. इसलिए हमें ख़ुद ही अपने स्वास्थ्य का ख़याल रखना होगा. ऐसी स्थिति में हमें भीड़ से बचना, घर से बाहर निकलने से बचना होगा.

-कोरोना महामारी से उत्पन्न हो रही आर्थिक चुनौतियों को ध्यान में रखते हुए वित्त मंत्री के नेतृत्व में सरकार ने एक 'कोविड-19-Economic Response Task Force' के गठन का फैसला किया है. ये टास्क फ़ोर्स ये भी सुनिश्चित करेगी कि आर्थिक मुश्किलों को कम करने के लिए जितने भी कदम उठाए जाएं उन पर प्रभावी रूप से अमल हो.

देशभर में कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. भारत में अब तक कोरोना वायरस के 181 मामले सामने आ चुके हैं. इस दौरान 4 मरीजों की मौत भी हो चुकी है.