कोरोना वायरस ने एक तरफ़ जहां लोगों की ज़िंदगियों को ख़तरे में डाला है. वहीं, दूसरी तरफ़ आर्थिक मोर्चे पर भी चोट पहुंचाने का काम किया है. पब्लिक गैदरिंग पर रोक है, लोग घरों में हैं. देश और राज्यों की अर्थव्यवस्था थम सी गई है. ऐसे में केरल सरकार ने बड़ कदम उठाया है. राज्य के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने 20,000 करोड़ के वित्तीय पैकेज का ऐलान किया है.

Source: thehindu

thenewsminute के मुताबिक़, उन्होंने कहा कि इस पैसे का इस्तेमाल स्वास्थ्य पैकेज, ऋण सहायता, कल्याण पेंशन, MGNREGS, मुफ्त खाद्यान्न, रियायती भोजन, कर राहत और बकाया निकासी में किया जाएगा.

‘हमारा राज्य एक बड़े संकट का सामना कर रहा है, सामान्य जीवन इस महामारी की चपेट में आ गया है. इसने हमारी अर्थव्यवस्था पर कहर बरपाया है और अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए, हम 20,000 करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा कर रहे हैं.’

इसी के साथ सीएम पिनराई विजयन ने लोगों को उनकी आर्थिक स्थिति की परवाह किये बिना, एक महीने के लिए मुफ़्त चावल देने का ऐलान किया है.

Source: thenewsminute

‘सभी को मुफ़्त चावल दिया जाएगा. ग़रीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) और ग़रीबी रेखा से ऊपर (एपीएल) कार्ड के आधार पर किसी के साथ भी भेदभाव नहीं होगा. एपीएल परिवारों को कुल 10 किलोग्राम अनाज दिया जाएगा. इसके लिए 100 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं.’

सीएम ने यह भी कहा कि कुदुम्बश्री के माध्यम से, जरूरतमंद परिवारों को 2000 करोड़ रुपये के ऋण वितरित किए जाएंगे.

वर्तमान में राज्य में लगभग 50 लाख लोग विभिन्न सामाजिक सुरक्षा पेंशन प्राप्त करते हैं. ‘ये पेंशन अप्रैल में दी जानी चाहिए. लेकिन हमने दो महीने की पेंशन राशि को इसी महीने देने का फ़ैसला किया है.’

मुख्यमंत्री ने कहा कि केरल में जिन परिवारों को किसी भी तरह की सामाजित सुरक्षा पेंशन का लाभ नहीं मिल रहा है, ऐसे सभी परिवारों को एक हज़ार रुपये दिये जाएंगे. इसके लिए 100 करोड़ रुपये अलग से रखे गए हैं.

Source: thehindu

यही नहीं, पानी और बिजली के बिल के भुगतान की तारीख़ भी आगे बढ़ दी गई है. कहा गया है जो लोग भी एक महीने बाद बिल जमा करेंगे, उनसे जुर्माना वसूल नहीं किया जाएगा.

बता दें, केरल में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख़्या 25 तक पहुंच गई है. करीब 31,173 लोगों की जांच की जा रही है जिनमें से 237 की अस्पताल में निगरानी की जा रही है. सारे काम ठप पड़े हैं. लोग बाहर निकलने से डर रहे हैं. ऐसे में राज्य सरकार की तरफ़ से उठाए गए ये कदम निश्चित ही जनता को कुछ राहत पहुंचाने का काम करेंगे.