कोरोना वायरस के मरीज़ों की संख्या अब देश में 147 तक पहुंच गई है. इसके डर के चलते लोग अब बस और ट्रेन से यात्रा करने से भी कतरा रहे हैं. शताब्दी एक्सप्रेस के यात्रियों में तो 41 फ़ीसदी की कमी आई है. रेलवे अधिकारियों के मुताबिक, ऐसा पहली बार हो रहा जब लगभग आधी ट्रेन खाली चल रही है.

रेल विभाग के अनुसार, दिल्ली से चंडीगढ़ और दिल्ली से कालका की ट्रेनों में पिछले कुछ दिनों से आधी सीटें खाली रह जा रही हैं. यात्रियों द्वारा पहले से किए गए रिजर्वेशन्स को कैंसिल कराने की दर में अप्रत्याशित वृद्धि देखने को मिल रही है.

Shatabdi
Source: livemint

पश्चिम एक्सप्रेस, जन शताब्दी एक्सप्रेस और कुछ लोकल ट्रेन्स में भी यात्रियों की संख्या लगभग आधी रह गई है. यात्रियों की संख्या कम होने की वजह से छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनल राजधानी, फिरोजपुर शताब्दी सहित कई ट्रेनें इस महीने रद्द करने का फै़सला किया गया है.

Shatabdi
Source: indiarailinfo

रेलवे विभाग के एक कर्मचारी ने इस संदर्भ में बात करते हुए कहा- ‘सरकार स्वयं कोरोना वायरस के चलते लोगों को यात्रा न करने की सलाह दे रही है. यही वजह है कि रेल टिकट्स के रिजर्वेशन में 40 फ़ीसदी की गिरावट आई है. अगर ऐसा ही रहा तो हमें कुछ ट्रेनों को रद्द करना पड़ेगा. हम स्थिति पर नज़र रखे हुए हैं और आगे लगातार अपडेट भेज रहे हैं. रेल मंत्रालय जो निर्देश आएंगे उनका पालन किया जाएगा.’

Shatabdi
Source: rupeeiq

रेलवे के एक अन्य कर्मचारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि चंडीगढ़ जाने और आने वाली शताब्दी ट्रेन्स हमेशा फ़ुल रहती थीं. इनमें कई महीनों पहले से ही रिजर्वेशन हो जाते थे. ऐसा पहली बार है जब वहां से आनी वाली शताब्दी एक्सप्रेस में आधी सीटें खाली रह जा रही हैं. चंडीगढ़ के लिए 35 बड़े स्टेशन्स से ट्रेन चलती हैं. यहां रोज़ाना क़रीब 9 हज़ार यात्री आते हैं.

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.