भाजपा के नेता और पूर्व मंत्री कांति गामित की पोती की हाल ही में गुजरात में सगाई हुई थी. इस कार्यक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जिसमें लोगों को कोविड-19 से जुड़े नियमों की धज्जियां उड़ाते देखा जा सकता है. वायरल वीडियो में सैकड़ों लोग नाचते दिखाई दे रहे हैं.

Source: mbs

ये कार्यक्रम 30 नवंबर को तापी जिले के दोसवाड़ा गांव में हुआ था. रिपोर्ट्स के मुताबिक, समारोह में छह हज़ार के क़रीब लोग शामिल हुए थे, जिन्होंने न तो मास्क पहना था और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का ही पालन कर रहे थे.

वीडियो वायरल होने के बाद गुजरात हाईकोर्ट ने इस पर संज्ञान लिया था. हाईकोर्ट की तरफ़ से गंभीर टिप्पणी के बाद आख़िरकार पुलिस ने गामित, उनके बेटे जीतू गामित और इंस्पेक्टर सीके चौधरी सहित 18 लोगों को आईपीसी की धाराओं के साथ-साथ महामारी अधिनियम के तहत गिरफ़्तार किया.

बता दें, कांति गामित ने ग़लती स्वीकार करते हुए कहा, ‘मैं ग़लती के लिए माफी मांगता हूं. हमने तुलसी विवाह और मेरी पोती के सगाई समारोह को एक साथ आयोजित किया था, लेकिन किसी को व्यक्तिगत रूप से आमंत्रित नहीं किया. हमने 2000 लोगों के लिए भोजन तैयार किया और डांस का भी आयोजन रखा था. किसी ने वीडियो बना लिया और ये वायरल हो गया.’

Source: ndtv

हाल ही में, गुजरात सरकार ने अहमदाबाद में 57 घंटे का कर्फ्यू लगाया और सूरत, वडोदरा और राजकोट में नाइट कर्फ़्यू लगाया. शादी समारोह में मेहमानों की संख्या भी 100 तक सीमित कर दी है, जिसमें मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग जैसे कोविड नियमों का पालन करना अनिवार्य है.

हालांकि, वायरल वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है कि किसी भी तरह से नियमों का पालन नहीं किया जा रहा है. ये हाल तब है, जब गुजरात में 2 लाख से ज़्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं और 4 हज़ार से ज़्यादा लोगों की कोरोना से मौत हुई है.