पूरा देश कोरोना के संकट से जूझ रहा है, राजधानी दिल्ली कोरोना वायरस के मरीज़ों की संख्या के हिसाब से दूसरे नंबर पर है. यह संक्रमण काफी तेज़ रफ़्तार से फ़ैल रहा है और हालात दिन-प्रतिदिन बिगड़ते ही जा रहे हैं. 23 जून को दिल्ली में एक दिन के अंदर कोरोना वायरस के 3947 नए पॉज़िटिव केस सामने आए, राजधानी में यह 24 घंटों के भीतर मिलने वाले केसों का अभी तक का सबसे बड़ा आंकड़ा है. जिसके चलते दिल्ली में कुल 66,602 केस हो गए हैं. 

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और सीएम अरविंद केजरीवाल के बीच पिछले हफ्ते कई दौर की बैठक हुईं थी, राजधानी की ये हालत देखकर दिल्ली सरकार ने 'दिल्ली कोविड रिस्पांस प्लान' तैयार किया है. डॉ. वी.के. पॉल समिति की सिफारिशों को ध्यान में रख कर दिल्ली सरकार के डायरेक्टरेट जनरल हेल्थ सर्विसेज ने प्लान जारी किया. इसके तहत 6 जुलाई तक हर घर की स्क्रीनिंग करने का लक्ष्य है. 

Source: twitter

क्या है कोविड रिस्पांस प्लान: 

इस नए प्लान से ज़िला स्तर पर सर्विलांस टीम और ओवरसाइट सिस्टम को मज़बूत करने पर ज़ोर दिया जाएगा. कंटेनमेंट को मॉनिटर करने वाली टीम में अब DM की अध्यक्षता वाली डिस्ट्रिक्ट टास्क फ़ोर्स के साथ-साथ, जिला पुलिस आयुक्त, नगर निगम के DC, एमसीडी में वर्तमान में मौजूद महामारी विशेषज्ञ और आरोग्य सेतु ऐप को मॉनिटर करने के लिए आईटी विशेषज्ञों को शामिल किया जाएगा. कोरोना से प्रभावित एरिया में सभी के फ़ोन में आरोग्य सेतु हो इस बात को लागू किया जाएगा. 

26 जून तक ज़ोन की समीक्षा और रीडिज़ाइन करना होगा, 30 जून तक कन्टेनमेंट ज़ोन में हर घर की स्क्रीनिंग की जायेगी और उस पर डेटा के हिसाब से कार्रवाई की जाएगी. 6 जुलाई तक बाकी दिल्ली में सभी घरों की स्क्रीनिंग होगी.