एक कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ ने दिल्ली के लोक नायक हॉस्पिटल पर उसे कथित तौर पर तत्काल इलाज के लिए भर्ती न करने का आरोप लगाया है. चूड़ीवालान के रहने वाले नसीम ने आरोप लगाया कि उनके परिवार के तीन अन्य रिश्तेदार भी मेडिकल सहायता के लिए अस्पताल पहुंचे, लेकिन उन्हें भी ट्रीटमेंट देने से मना कर दिया गया. उन्होंने बताया कि उनके घर में COVID-19 के सात और भी मरीज़ हैं. 

Source: ndtv

नसीम के अनुसार, वो और उनके परिवार के सदस्य एक निजी लैब से आरटी-पीसीआर टेस्ट कराने के बाद कोरोना पॉज़िटिव पाए गए, जिसके बाद वो इलाज़ के लिए लोक नायक हॉस्पिटल पहुंचे. 

‘मैं अपने बेटे, भतीजे और भाई के साथ लोक नायक अस्पताल के बाहर खड़ा हूं. हम सभी के कोरोना टेस्ट पॉज़िटिव आए हैं. लेकिन कोई भी स्वास्थ्य कर्मचारी हमारी बात नहीं सुन रहा है. मैंने पुलिस को हमारी स्वास्थ्य स्थिति के बारे में भी बताया था. अब, हम यहां तक पहुंच गए हैं, मैं अस्पताल के अधिकारियों से हमारी मदद करने और हमें एडमिट करने के लिए कह रहा हूं.’ 

नसीम और उनका परिवार दो घंटे से ज़्यादा इलाज़ के लिए हॉस्पिटल के बाहर खड़ा रहा. ‘हम अपने घर से पैदल बड़ी मुश्क़िल से हॉस्पिटल पहुंचे हैं. घर में अभी एक दो माह की बच्ची समेत सात मरीज़ हैं. हम पहले आ गए ताकि हमें एडमिट कर लिया जाए फिर बाकी लोगों को भी बुला लिया जाएगा. लेकिन यहां हमारी कोई मदद नहीं कर रहा है.’ 

हालांकि, लोक नायक अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. JC Passey ने ANI को बताया, ‘हमने परिवार के तीन व्यक्तियों को एडमिट किया है, जो कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं. इसमें बुजुर्ग और अन्य मरीज़ शामिल हैं के साथ ही एक दो महीने का बच्चा भी शामिल है.’ 

Source: indianexpress

डॉ. Passey ने बताया कि लोक नायक अस्पताल श्रेणी 3 के अंतर्गत आने वाले COVID-19 मरीज़ों को एडमिट कर रहा है, जिनमें ऐसे मरीज़ शामिल हैं, जो बहुत बीमार हैं और जिन्हें ICU और वेंटिलेशन की ज़रूरत है. 

हाल ही में, केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को COVID-19 रोगियों के लिए तीन श्रेणियों के तहत अस्पतालों को वर्गीकृत करने के लिए दिशा-निर्देश जारी किए. सभी तीन प्रकार की COVID-19 समर्पित सुविधाओं में संदिग्ध और कंफ़र्म मामलों के लिए अलग-अलग स्थान होंगे. 

किसी भी हाल में संदिग्ध और कंफ़र्म केस को एक साथ मिलाने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए. बता दें, लोक नायक अस्पताल दिल्ली सरकार द्वारा कोरोना वायरस रोगियों के इलाज के लिए दी गई सबसे बड़ी सुविधा है.