देश में कोरोना वायरस से संक्रमित होने वालों की संख्या में इज़ाफ़ा देखने को मिला है. कई राज्यों में पब्लिक गैदरिंग पर रोक लगा दी गई है. ऐसे में लोगों के चेहरों पर डर साफ़ देखा जा सकता है. लेकिन कोरोना से डरने की जरूरत नहीं है, आवश्यकता बस एहतियात बरतने की है. दरअसल, कोरोना को लेकर पॉजिटिव ख़बर आई है. दिल्ली का पहला कोरोना पॉज़िटिव मरीज़ ठीक होकर अस्पताल से घर जा चुका है.

Ndtv की रिपोर्ट के मुताबिक़, दिल्ली का पहला कोरोना पॉज़िटिव 45 वर्षीय शख़्स अब ठीक हो गया है. ठीक होने के बाद उसने दिल्ली के सफ़दरजंग अस्पताल में मरीज़ों को जो सुविधाएं दी जा रही हैं, उनकी तारीफ़ की. इसी अस्पताल में उनका पिछले दो हफ़्तों से इलाज किया जा रहा था.

Source: sanjeevnitoday

उन्होंने कहा, ‘डरने की कोई जरूरत नहीं है. ये बिल्कुल साधारण बुख़ार की तरह ही है. अगर एक स्वस्थ व्यक्ति डॉक्टर के पास जाता है, तो हमारा हेल्थ सिस्टम पूरी तरह सक्षम है, दुनिया की सबसे बेहतरीन सुविधाओं में से एक हमारे पास हैं. आइसोलेशन वॉर्ड कोई बंद कमरा नहीं है, जहां सूरज की रोशनी तक न आती हो.’

उन्होंने कहा कि जिन दो लोगों को रविवार को घर जाने दिया गया है, उन्हें अगले 14 दिनों तर घर पर ही रहने की सलाह दी गई है. उन्होंने बताया कि अस्पताल में जो डॉक्टरों की टीम काम कर रही है, वो भी बहुत ही अच्छी है.

Source: jansatta

‘मैं 25 फ़रवरी को यूरोप से वापस लौटा और अगले दिन मुझे बुख़ार लगा. मैंने डॉक्टर को दिखाया तो उन्होंने गले में इंफ़ेक्शन बताया. डॉक्टर ने मुझे तीन दिन की दवा दे दी. मैं 28 तक सही हो गया लेकिन 29 को मुझे फिर से फ़ीवर चढ़ गया. जिसके बाद मैं राम मनोहर लोहिया अस्पताल गया, जहां 1 मार्च को मेरा टेस्ट पॉज़िटव पाया गया.’

‘मैं सच कहूं तो ये तब तक बहुत मुश्क़िल था, जब तक उन्होंने मेरा टेस्ट पॉज़िटिव नहीं बताया था. लेकिन अगले दिन जब सफ़दरजंग अस्पताल में मुझसे डॉक्टरों की टीम मिलने आई, तो उन्होंने मुझे आश्वस्त कर दिया. उन्होंने कहा कि इसका इलाज़ संभव है, आप एक स्वस्थ व्यक्ति हैं. ये बिल्कुल सर्दी-जुख़ाम की तरह ही है, जो ख़त्म हो जाएगा. बस इसमें थोड़ा सा ज़्यादा समय लगेगा.’

‘मैं कोई डॉक्टर नहीं हूं, लेकिन बता सकता हूं कि ये सर्दी-जुख़ाम से थोड़ा अलग है. मैं सरकार की ओर से बनाए गए आइसोलेशन वॉर्ड में था. यहां सुविधाएं बहुत बेहतर थी, उन सबसे बेहतर जिन्हें मैंने आज तक देखा है, यहां तक निजी अस्पतालों से भी बेहतर. मेरा प्राइवेट रूम था, जिसमें बाथरूम भी था.’

Source: prabhatkhabar

दिल्ली स्वास्थ्य विभाग ने एक स्टेटमेंट जारी कर बताया कि ये उन सात लोगों में से एक था, जिन्हें कोरोना वायरस पॉज़िटव पाया गया था, इनमें से एक मरीज़ की मौत भी हो गई थी. वहीं, दो लोगों को इलाज़ के बाद डिस्चार्ड कर दिया गया.

बता दें, भारत में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या 100 के पार चली गई है. वहीं, चीन के वुहान से निकले इस वायरस से अब तक दुनिया में 6 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.