वैसे तो सुनने में ये समस्या छोटी लग सकती है लेकिन जो दिल्ली मेट्रो में सफ़र करते हैं उन पर क्या बीतती है, वही जानते हैं. इतने सारे बेमतलब के अनाउंसमेन्ट्स होते हैं कि एक बंदा शांति से दो लोगों के बीच हो रही लड़ाई भी नहीं सुन सकता!

Source: Hindustan Times

वेस्ट जनकपुरी, दिल्ली को बॉटेनिकल गार्डन, नोएडा से जोड़ने वाली मजेंटा लाइन पर 57 मिनट की यात्रा में ऑडियो और वीडियो मिलाकर कुल 37 अनाउंसमेंट होते हैं.

DMRC ने ये तय किया है कि वो ऑडियो अनाउंसमेंट की संख्या को कम करेगी. जैसे फ़र्श पर बैठे यात्रियों, संदेहस्पद सामग्री आदि के लिए होने वाली घोषणाओं की संख्या घटा कर मात्र 7 कर दी जाएगी. ट्रायल के तौर पर ऐसा तीन महीने के लिए किया जाएगा और इसकी शुरुआत आज से होगी.

एक उच्च अधिकारी ने बताया कि वीडियो के सिर्फ़ 25 अनाउंसमेंट किए जाएंगे. इसमें यात्रियों के स्वागत, समार्ट कार्ड के इस्तेमाल आदि की सूचना इसी श्रेणी में आएंगी.

महिलाओं के डिब्बे से जुड़ी जानकारी का अनाउंसमेंट प्लेटफ़ॉर्म पर ही दे दिया जाएगा.

Source: Insight India

हालांकि, DMRC ने सुनिश्चित किया है कि ज़रूरी अनाउंसमेंट जैसे- अगले स्टेशन की जानकारी, दरवाज़े खोलने की दिशा, अंतिम स्टेशन, ट्रेन बदलने की जानकारी आदि दी जाएंगी. सिर्फ़ ऑडियो अनाउंसमेंट की संख्या घटाई जाएगी, वीडियो में सभी अनाउंसमेंट पुराने तरीके से चलते रहेंगे.

ये फ़ैसला लोगों की प्रतिक्रिया मिलने के बाद लिया गया है. ट्रायल ख़त्म हो जाने के बाद इसकी शुरुआत पिंक लाइन मेट्रो से की जाएगी.