कोरोना के खौफ़ ने किसी को नहीं बख़्शा है. दुनिया के सबसे ताकतवर मुल्क के राष्ट्रपति तक को हाथ जोड़ने पर मजबूर होना पड़ गया. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और आयरलैंड के प्रधानमंत्री लियो वराडकर ने गुरुवार को व्हाइट हाउस में मुलाक़ात की. कोरोना वायरस के ख़तरे को देखते हुए ट्रंप ने वराडकर का स्वागत पारंपरिक भारतीय अभिवादन ‘नमस्ते’ से किया.

मीडिया के पूछने पर ट्रंप ने कहा कि, ‘मैंने और आयरलैंड के पीएम ने आज हाथ नहीं मिलाया. हमने एक दूसरे को देखा और कहा कि हम क्या करने जा रहे हैं. ये बड़ा अजीब था.’

इस दौरान एक और मीडियाकर्मी ने पूछा कि क्या वे हाथ मिला सकते हैं, इसके जवाब में वराडकर ने अपने हाथ जोड़कर नमस्ते कहा. इसके जवाब में ट्रंप ने भी नमस्ते में अपने हाथ जोड़ लिये.

वहीं, ट्रंप ने नमस्ते करते हुए मीडिया से कहा कि ‘मैं हाल ही में भारत से लौटा हूं. और वहीं मैंने किसी से हाथ नहीं लाया. और ये आसान था क्योंकि वे ऐसे ही अभिवादन करते हैं.’

Source: abcnews

बता दें, कोरोना वायरस के बढ़ते ख़तरे को देख ज़्यादातर लोग एक-दूसरे के संपर्क में आने से बच रहे हैं. यही वजह है कि कई लोग इस संस्कृति को अपना रहे हैं. ट्रंप के अलावा बकिंघम पैसेल में प्रिंस चार्ल्स भी नमस्ते करते हुए देखे गए. प्रिंस चार्ल्स और ब्रिटिश टीवी एंकर फ्लोएला बेंजामिन ने गुरुवार को नमस्ते कर एक दूसरे का अभिवादन किया.

कोरोना के कारण दुनियाभर में अब तक 4 हज़ार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं. अमेरिका में ही 38 लोगों ने इस वायरस से अपनी जान गंवाई है. लगातार फ़ैलते इस वायरस के ख़तरे को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी इसे महामारी घोषित कर दिया है.