झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) को राष्ट्रपति चुनाव (President Election) के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) के उम्मीदवार के रूप में घोषित किया गया है. उनका सामना पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा से होगा, जिन्हें आगामी चुनाव में संयुक्त विपक्षी उम्मीदवार के रूप में चुना गया है.

tosshub

ये भी पढ़ें: President Election 2022: जानिए राष्ट्रपति और राष्ट्रपति चुनाव से जुड़े इन 10 ज़रूरी सवालों के जवाब

कौन हैं द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu)?

द्रौपदी मुर्मू (Droupadi Murmu) का जन्म 20 जून, 1958 को ओडिशा के बैदापोसी गांव में हुआ था. उनके पिता का नाम बिरंची नारायण टुडू है. वो संथाल जनजाति से ताल्लुक़ रखती हैं. राजनीति में आने से पहले उन्होंने एक स्कूल शिक्षक के रूप में काम किया और फिर 1983 तक वो सिंचाई और बिजली विभाग में एक कनिष्ठ सहायक के रूप में काम करती रहीं.

toi

पार्षद बनकर हुई पॉलिटिकल करियर की शुरुआत

साल 1997 में रायरंगपुर नगर पंचायत में भाजपा के टिकट पर पार्षद बनने के बाद उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत की. वो तब भाजपा के अनुसूचित जनजाति मोर्चा की उपाध्यक्ष बनीं भी थीं. 

manoramaonline

द्रौपदी मुर्मू 2000 और 2004 में रायरंगपुर निर्वाचन क्षेत्र से भाजपा के टिकट पर दो बार विधायक चुनी गईं. 2002 में, उन्हें नवीन पटनायक कैबिनेट में वाणिज्य और परिवहन मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया. 2004 में, मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के दूसरे कार्यकाल में मुर्मू को मत्स्य पालन और पशु विकास मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया था.

वहीं, साल 2015 में उन्हें  झारखंड के राज्यपाल के तौर पर नियुक्त किया गया. वो राज्य की पहली महिला राज्यपाल बनी थीं. साथ ही, वो झारखंड में पांच साल का कार्यकाल पूरा करने वाली पहली राज्यपाल भी हैं. 

शिक्षा और पर्सनल लाइफ़

द्रौपदी मुर्मू ने रामादेवी महिला कॉलेज से स्नातक किया, जो ओडिशा के भुवनेश्वर में स्थित है. द्रौपदी मुर्मू की शादी श्याम चरण मुर्मू से हुई थी और उनके दो बेटे और एक बेटी थी. हालांकि, उनके पति और दोनों बेटे अब इस दुनिया में नही हैं. द्रौपदी के परिवार में अब उनकी बेटी इति, नातिन और दामाद हैं. 

infoknocks

बता दें, राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान 18 जुलाई को होगा और मतगणना 21 जुलाई को होगी. मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म होगा. अगर द्रौपदी मुर्मू देश की राष्ट्रपति बनती हैं, तो वो देश की पहली आदिवासी महिला होंगी, जो इस सर्वोच्च पद पर पहुंचेंगी. साथ ही, ओडिशा से देश की राष्ट्रपति बनने वाली दूसरी शख़्स होंगी. द्रौपदी मुर्मू से पहले ओडिशा से वीवी गिरी देश के राष्ट्रपति रह चुके हैं.