मुंबई के एक मामले में एक बड़ा सेक्स रैकेट चलने के संकेत मिले हैं. बॉम्बे हाईकोर्ट ने धार्मिक नेता 55 वर्षीय सुनील कुलकर्णी के खिलाफ़ सेक्स और ड्रग्स रैकेट के आरोप में गिरफ़्तारी के आदेश दिए हैं. सुनील कुलकर्णी ख़ुद को एक मनोचिकित्सक बताता है और ‘शिफु पंथ’ का संस्थापक होने का दावा करता है.

कुछ लड़कियों के मां-बाप ने पुलिस को इस घटना के बारे में सूचित किया. उनके खिलाफ़ मलाड पुलिस स्टेशन में ट्रैफ़िकिंग, धोखा-धड़ी, सूचना तकनीकी का गलत इस्तेमाल करने के आरोप हैं. ये आदमी लड़कियों को देह व्यापर और ड्रग्स की ओर धकेल देता था.

शिकायत करने वाले मां-बाप के मुताबिक, कुलकर्णी ने उनकी लड़कियों को ड्रग्स के नशे में धकेला है. दम्पति ने आरोप लगाया था कि उनकी 23 और 21 साल की दो बेटियां सोशल मीडिया पर चलाए जा रहे ग्रुप ‘शिफू सुनकृति’ से जुड़ने के बाद से असामान्य बर्ताव करने लगी हैं.

गौरतलब है कि इससे पहले भी दम्पति ने पुलिस से शिकायत की थी. कोर्ट ने पुलिस को इतने गंभीर मामले में कोई सख्त कदम न उठाने के लिए फटकार लगायी है. कोर्ट का कहना है कि ये सेक्स और ड्रग्स से जुड़ा हुआ मामला है और पुलिस को इसे गंभीरता से लेना चाहिए था.

कुलकर्णी ने ये पेज 9 महीने पहले शुरू किया था. वो लोगों से अपना नम्बर देने के लिए कहता था और 18 से 25 साल की लड़कियों को अपना निशाना बनाता था. इसके चंगुल में लड़कियां इतनी बुरी तरह फंस जाती थीं कि अपने परिजनों से भी दूर हो जाती थीं. एक परिवार की लड़कियों ने पुलिस को शिकायत करने की बात पर आत्महत्या करने की धमकी तक दे डाली थी.

इससे पहले भी कुलकर्णी के खिलाफ़ दिल्ली और मुंबई में कई मामले दर्ज किये जा चुके हैं.