भोपाल से BJP का प्रतिनिधित्व करने वाली लोक सभा प्रत्याशी, 'साध्वी प्रज्ञा' अपने इस नए बयान से फिर ख़बरों में आ गयी हैं. "बाबरी मस्जिद को गिराने पर हमें गर्व है. हमें उस घटना पर कोई खेद नहीं है"

एक निजी टीवी चैनल को इंटरव्यू देते हुए मालेगांव हमले की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ने ये भी कहा कि बाबरी मस्जिद हादसे से देश में हिन्दुओं का स्वाभिमान जागृत हुआ है. कांग्रेस के 70 साल के राज में हमारे मंदिर भी सुरक्षित नहीं थे.


जब उनसे पुछा गया कि अब तक उस स्थान पर राम मंदिर क्यों नहीं बना, तो उनका जवाब था कि ये BJP के लिए एक चुनावी मुद्दा नहीं है.

सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़ने की क्षमता रखने वाले इस बयान पर चुनाव आयोग ने साध्वी प्रज्ञा को नोटिस देते हुए 24 घंटे के अंदर जवाब तलब किया है.

बेल पर बाहर मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा ने एक दिन पहले ही ये शर्मनाक और बेतुका बयान दिया था कि उसके श्राप के कारण शहीद ATS चीफ़ हेमंत करकरे की मृत्यु हुई थी. हालांकि बाद में उसने माफ़ी मांग ली थी.


बाबरी मस्जिद पर साध्वी प्रज्ञा के इस बयान पर ट्विटर पर हर कोई अपनी प्रतिक्रिया दे रहा है.