समाज में ऐसी भी संतानें होती हैं जिनके लिए माता-पिता सिर्फ़ एक बोझ बनकर रह जाते हैं. इसके उदाहरण हमें अक्सर देश की सड़कों पर देखने को मिल जाता है. हमें सड़कों पर ऐसे कई असहाय बुज़ुर्ग पड़े दिख जाते हैं जिनका अपना कोई नहीं है. बस स्टेशन हो या रेलवे स्टेशन या फिर किसी धार्मिक स्थल के के बाहर आपको ऐसे कई बुज़ुर्ग देखने रोटी या सहायता मांगते हुए मिल जाएंगे.

Source: Dainik Bhaskar

इंदौर से भी ऐसी एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है. दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के अनुसार, गुमास्ता नगर स्थित शिव मंदिर के सामने एक वृद्धा को उसके परिवार के लोग सड़क किनारे छोड़कर चले गए. वृद्धा चलने फिरने में भी असमर्थ हैं.

इस दौरान जब लोगों ने वृद्धा को अकेले देखा तो 'गोल्ड कॉइन सेवा ट्रस्ट' को फ़ोन किया. ट्रस्ट के लोग मौक़े पर पहुंचे और वृद्धा को साथ ले गये. महिला इतनी वृद्ध हैं कि वो ठीक से बातें भी नहीं कर पा रही थीं. इस दौरान वृद्धा सिर्फ़ रो रही थीं.

Source: Dainik Bhaskar

ट्रस्ट के सदस्यों के मुताबिक़ घबराहट और डर की वजह से महिला लगातार रो रही हैं लेकिन वो सामान्य हो जाएंगी. महिला को चाणक्यपुरी चौराहे के पास स्थित दशरथ सेवाश्रम में स्थाई निवास दिया गया है.