अमेरिका की दिग्गज इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी टेस्ला की भारत में एंट्री हो गई है. एलन मस्क की इस कंपनी ने आधिकारिक रूप से बेंगलुरु में एक सब्सिडियरी कंपनी को रजिस्टर कराया है. टेस्ला यहां लग़्ज़री इलेक्ट्रिक कारों का निर्माण और कारोबार करेगी.

Source: freepressjournal

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कंपनी ने 8 जनवरी को रजिस्ट्रेशन कराया है. इस यूनिट का नाम 'टेस्ला इंडिया मोटर्स एंड एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड' रखा गया है. इसे एक विदेशी कंपनी की सब्सिडियरी के रूप में पंजीकृत किया गया है. कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय के अनुसार, इस नई यूनिट के लिए वैभव तनेजा, बेंकटरंगम श्रीराम और David John Feinstein को निदेशक भी नियुक्त कर दिया है. 

गौरतलब है कि, टेस्ला के फाउंडर और CEO एलन मस्क ने पिछले साल ट्विटर पर कहा था कि कंपनी की योजना 2021 तक से भारत में एंट्री करने की है. वहीं, केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने भी दिसंबर में कहा था कि टेस्ला अगले साल की शुरुआत में भारत में अपना ऑपरेशन शुरू कर देगी. 

Source: nbcnews

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने टेस्ला का स्वागत किया है. उन्होंने ट्वीट किया, ‘कर्नाटक भारत में ग्रीन मोबिलिटी का नेतृत्व बनेगा. इलेक्ट्रिक कार निर्माता टेस्ला बेंगलुरु में R&D यूनिट के साथ जल्द ही भारत में अपना कारोबार शुरू करेगी. मैं भारत में एलन मस्क का स्वागत करता हूं और उन्हें शुभकामनाएं देता हूं.’

रजिस्ट्रार ऑफ़ कंपनीज़ (RoC) फ़ाइलिंग के मुताबिक, टेस्ला की भारतीय सब्सिडियरी प्राइवेट सेक्टर की अननिस्टेड कंपनी होगी, जिसका अधिकृत कैपिटल क़रीब 15 लाख रुपये और पेड-अप कैपिटल क़रीब 1 लाख रुपये होगी.

बता दें, कंपनी कर्नाटक के अलावा गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु की सरकारों के भी संपर्क में है.