नारियल और सुपारी की खेती करना किसानों के लिए बहुत ही फ़ायदेमंद होता है. ये जानते हुए भी अधिकतर किसान इसकी खेती करने से कतराते हैं. वजह है इनके पेड़ों का सीधा और चिकना होना. इन पर चढ़कर फल पर कीटनाशक डालना और उन्हें तोड़ना काफ़ी मुश्किल होता है. किसानों की इसी मुश्किल को ध्यान में रखते हुए, मंगलुरू के एक किसान ने ऐसी मशीन बनाई है जिसकी मदद से इन पेड़ों पर चढ़ना किसानों के लिए बाएं हाथ का खेल हो गया है.

इस नायाब आविष्कार करने वाले किसान का नाम है गणपति भट्ट. इनकी बनाई मशीन की मदद से नारियल और सुपारी के पेड़ों पर किसान 30 सेकेंड में चढ़ सकता है और वो भी बिना किसी परेशानी के.

Source: twitter

अभी तक किसानों के लिए इन पेड़ों पर चढ़ना जटिल काम होता था. लेकिन गणपति भट्ट की बाइक जैसी इस मशीन से ये काम बहुत आसान हो गया है. इस मशीन का वज़न 28 किलो है और ये 60-80 किलो के व्यक्ति को आसानी से पेड़ पर चढ़ा सकती है.

इस मशीन की मदद से किसान एक लीटर पेट्रोल में करीब 80 पेड़ों पर चढ़ सकते हैं. इसकी क़ीमत क़रीब 75000 रुपये है. आस-पास के किसानों में ये काफ़ी लोकप्रिय हो रही है. गणपति का कहना है कि उन्हें एडवांस में इस मशीन को बनाने के ऑर्डर मिल रहे हैं. इन्होंने इस मशीन को बनाते हुए किसानों की सेफ़्टी का भी पूरा ध्यान रखा है.

गणपति की इस मशीन ने महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा का ध्यान भी अपनी ओर खींचा है. वो हमेशा इस तरह के नवाचार को प्रोत्साहित करते रहते हैं. उन्होंने ट्वीट कर इस नए आविष्कार की तारीफ़ की है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा- 'ये कितनी कूल है? ये डिवाइस न केवल प्रभावी है और अपना काम करती दिखाई पड़ती है, बल्कि इसे बेहतरीन तरीके से डिज़ाइन किया गया है. इसका वज़न कम से कम है.'

इसके साथ ही ट्वीट में उन्होंने महिंद्रा ऐंड महिंद्रा लिमिटेड में फ़ार्म इक्विपमेंट सेक्टर के प्रेसिडेंट राजेश जेजूरिकर को मेंशन करते हुए कहा कि आपकी टीम इस डिवाइस की करीब से पड़ताल करे और देखे क्या हम मिस्टर भट्ट की इस मशीन को अपने फ़ार्म सॉल्यूशन पोर्टफ़ोलियो के तहत बेच सकते हैं?

है न कमाल का आविष्कार?