5 जुलाई को देश का यूनियन बजट पेश होने जा रहा है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण संसद में मोदी सरकार 2.0 का पहला बजट पेश करेंगी.

Source: jagran

इससे पहले गुरुवार को संसद में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक सर्वे पेश किया. आर्थिक सर्वे में देश की अर्थव्यवस्था में 8 फ़ीसदी विकास दर पाने के सुझाव दिए गए हैं, जिससे 2025 में ये 5 ट्रिलियन डॉलर को पार कर सकती है.

Source: amarujala

ये सब तो ठीक है, लेकिन इतनी भारी भरकम बातें देश की आम जनता के समझ में नहीं आने वाली. देश की ग़रीब जनता को 8 फ़ीसदी विकास दर और 5 ट्रिलियन डॉलर वाली अर्थव्यवस्था से भी कोई लेना देना नहीं है.

Source: oxfam

देश हित में सोचें तो एज्युकेशन, एग्रीकल्चर, इन्फ़्रास्ट्रक्चर, रेलवे और डिफ़ेंस जैसी भारी भरकम बातें भले ही अच्छी लगती हों, लेकिन एक आम आदमी को हर साल पेश होने वाले बजट से रोटी, कपड़ा, बिजली और पानी की कीमत में राहत मिलने की उम्मीद रहती है.

Source: google

सरकारें हर साल देश में ग़रीबी मिटाने, रोजगार देने, शिक्षा को बढ़ावा देने, अच्छी स्वास्थ्य सेवाओं पर जोर देने, खाने-पीने की वस्तुएं सस्ती करने, पीने का पानी उपलब्ध कराने के वादे करती हैं, लेकिन ये वादे कभी पूरे नहीं होते. आम आदमी हर साल ख़ुद को ठगा महसूस करता है.

Source: livemint

हर रोज़ दो वक़्त की रोटी का जुगाड़ करने वाले ग़रीब को देश की इकोनॉमी के जटिल गणित से कोई लेना देना नहीं होता है. उसे बस हर दिन भर पेट खाना मिल जाए, वही उसके लिए इकोनॉमी की सबसे बड़ी जीत है.

Source: thehindubusinessline

वहीं मिडिल क्लास को अपने बच्चों की शिक्षा, नौकरी, घर और भविष्य की चिंता होती है. जबकि उच्च वर्ग को इन सब चीज़ों से कोई फ़र्क नहीं पड़ता उन्हें बस 500 करोड़ और 1000 करोड़ में डील करनी होती है.

Source: newindianexpress

आम आदमी के तौर पर मैं इस बार बजट से यही उम्मीद करता हूं कि सरकार ने जो वादे चुनावों के वक़्त जनता से किये थे बस उन्हें पूरा कर दे. सरकार से मुझे एक ऐसे बजट की उम्मीद है जो देश के आम आदमी के हित में हो-

मेरा बजट ऐसा हो?

1- खाने-पीने की चीज़ें सस्ती हों.

2- पढ़े लिखे लोगों को रोजगार मिले.

3- सस्ती शिक्षा पर जोर दिया जाए.

4- बिजली सस्ती दर पर मिले.

5- सस्ती स्वास्थ्य सेवाएं मिले.

6- महंगे ट्रांसपोर्ट से छुटकारा मिले.

7- कपड़े, जूते और घरेलू सामान सस्ता हो.

8- नौकरी पेशा लोगों को टैक्स में छूट मिले.

एक आम आदमी को इससे ज़्यादा और कुछ नहीं चाहिए. अगर केंद्र सरकार इस बार बजट में इन बातों पर अमल करे तो देश में रामराज तो ऐसे ही आ जायेगा.