'यक़ीन हो तो कोई रास्ता निकलता है, हवा की ओट भी ले कर चराग़ जलता है'.

मशहूर शायर मंज़ूर हाशमी के इसी शेर के साथ वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज संसद में मोदी सरकार 2.0 का पहला बजट पेश किया. 49 साल बाद किसी महिला ने देश का बजट पेश किया है. इससे पहले साल 1970 में इंदिरा गांधी ने बजट पेश किया था. वे उस वक्त प्रधानमंत्री थीं और वित्त मंत्रालय भी उन्हीं के पास था.

Source: ndtv.com

बजट पेश करने से पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिलीं.

Source: businesstoday

इस बार बजट की जो सबसे ख़ास बात रही वो ये कि इसे बजट नहीं बल्कि 'बही खाता' के तौर पर पेश किया गया.

Source: thehindu

अपनी बजट स्पीच में निर्मला सीतारमण ने कहा, "इस बार देश की जनता ने हमें पूर्ण बहुमत के साथ सरकार में बैठाया है. इसलिए हमारा लक्ष्य रिफ़ॉर्म, परफ़ॉर्म और ट्रांसफ़ॉर्म का है. हम मेक इन इंडिया के ज़रिए स्वदेशी की तरफ बढ़ रहे हैं. इसके अलावा हमारी सरकार देश को आधुनिक भी बना रही है. हमारी सरकार का अगला बड़ा लक्ष्य जल रास्ते को बढ़ावा देना है. साथ ही 'वन नेशन, वन ग्रिड' के लिए हम आगे बढ़ रहे हैं, जिसका ब्लूप्रिंट तैयार किया जा रहा है."

Source: bhaskar

ये रही नए बजट की मुख़्य बातें-

1- जनधन खाताधारक महिलाओं को 5000 रुपये ओवरड्राफ़्ट की सुविधा.

2- छोटे दुकानदारों को मिलेगी पेंशन.

3- महिलाओं के लिए अलग से 1 लाख रुपये के मुद्रा लोन की सुविधा मिलेगी.
4- 2022 तक हर किसी को घर और हर गांव में बिजली देने का लक्ष्य.

5- रेलवे के विकास के लिए लागू होगा PPP मॉडल.

6- नेशनल ट्रांसपोर्ट कार्ड का ऐलान.

7- 2024 तक हर घर तक जल पहुंचाने का लक्ष्य.

8- सरकार ने 1 से 20 रुपये के नए सिक्कों का ऐलान.

9- देश में ऑनलाइन कोर्स को बढ़ावा देने के लिए 'अध्ययन' कार्यक्रम की शुरुआत.

10- 'स्टैंड अप इंडिया स्कीम' के तहत महिलाओं, ST-ST उद्यमियों को लाभ दिया जाएगा.

11- शिक्षा नीति पर रिसर्च के लिए 'राष्ट्रीय अनुसंधान प्रतिष्ठान' बनाने का ऐलान.

12- 20 'प्रोद्योगिकी बिज़नेस इंक्यूबेटर' बनाये जाएंगे, जिसके ज़रिए 20 हज़ार लोगों को स्किल किया जाएगा.

13- NRI को भारत आते ही आधार कार्ड की सुविधा मिलेगी, अब वो 180 दिन से ज़्यादा दिन भारत में रह सकते हैं.

Source: aajtak

भारत का पहला बजट 18 फ़रवरी 1860 को जेम्स विल्सन ने पेश किया था. इंदिरा गांधी बजट पेश करने वाली पहली महिला थीं. उन्होंने 28 फ़रवरी 1970 को बजट पेश किया था. मोरारजी देसाई ने सबसे ज़्यादा 10 बार आम बजट पेश किया, इनमें से 8 पूर्ण और 2 अंतरिम बजट थे.