देश की सड़कों पर मार-पीट और रोड-रेज की घटनाएं आम होती जा रही हैं. ज़रा-ज़रा सी बात पर लोग मरने-मारने को तैयार हो रहे हैं. बीती रात दक्षिण कोलकाता की सड़कों पर गुंडागर्दी और अभद्र व्यवहार का सामना करना पड़ा.

फ़ेसबुक पर एक पोस्ट के ज़रिए उन्होंने अपनी आप-बीती बताई.

'18 जून की रात लगभग 11:40 बजे मैंने JW Marriott कोलकाता से घर के लिए उबर बुक की. मेरे साथ मेरे एक सहकर्मी भी थे. हमने Exide Crosiing से Elgin के लिए लेफ़्ट टर्न लिया. तभी बाइक पर कई लड़के आए और हमारी गाड़ी को टक्कर मारी. उन्होंने बाइक रोकी और ड्राइवर को बाहर निकलने के लिए कहने लगे. उन्होंने खींचकर ड्राइवर को बाहर निकाला और उसे मारने लगे. मैंने बाहर निकलर उन्हें रोकने की कोशिश की और वीडियो बनाने लगी. मैं सड़क के उस पार स्थित मैदान पुलिस स्टेशन पहुंची और वहां मौजूद पुलिसकर्मी से साथ आने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि वो एरिया भवानीपुर पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आता है. मैं रो पड़ी और उनसे साथ चलने की गुज़ारिश की और कहा कि वो लड़के ड्राइवर को मार डालेंगे. अफ़सर आए और लड़कों से कहा कि वो माहौल ख़राब कर रहे हैं. लड़कों ने पुलिसवालों को धक्का दिया और भाग गए. फिर भवानीपुर थाने से दो पुलिसवाले आए. मैंने ड्राइवर से मुझे घर छोड़ने को कहा. मैंने और मेरे सहकर्मी ने मामले को सुबह पुलिस के पास ले जाने का निर्णय लिया.


वो लड़के हमारी गाड़ी का पीछा कर रहे थे और हमारे सहकर्मी के घर पहुंचते ही बाइक पर आए उन 3 लड़कों ने गाड़ी रोकी और गाड़ी का शीशा तोड़ दिया. उन्होंने मुझे खींचकर बाहर निकाला और फ़ोन छीनकर वीडियो डिलीट करने की कोशिश की. मैं शोर मचाने लगी और आस-पास के लोग मदद को आए.'

Source: Facebook

'मैंने अपने पापा और बहन को फ़ोन किया. पुलिसवालों ने मुझे चारु मार्केट थाने में शिकायत लिखवाने को कहा. मैं वहां के सब-इंस्पेक्टर से मिलने गई और उन्होंने मुझे भवानीपुर थाने में रिपोर्ट लिखवाने को कहा. थाने में कोई महिला पुलिसकर्मी नहीं थी. पुलिसकर्मियों ने मेरी शिकायत दर्ज कर ली पर उबर ड्राइवर की शिकायत नहीं दर्ज की क्योंकि एक मामले की दो FIR नहीं की जा सकती.'

इस पोस्ट को 15 हज़ार से ज़्यादा बार शेयर किया गया है.

ANI के ट्वीट के अनुसार, इस मामले में 7 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.