देश में सर्दी के आते ही कई राज्यों में एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) ख़तरनाक स्तर पर पहुंच गया है. पूर्वी राज्यों में पराली के जलने से उत्पन्न हुए प्रदूषण के कारण लोग गैस चेंबर में जीने को मजबूर हैं. दिवाली पर पटाखों के चलते वायु प्रदूषण बढ़ने की पूरी उम्मीद है. 

Source: images

राज्य सरकारों को डर है कि अगर वायु प्रदूषण बढ़ा तो कोरोना वायरस का संक्रमण भी बढ़ेगा. नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने भी राज्य सरकारों को नोटिस जारी कर सार्वजनिक स्वास्थ्य और पर्यावरण के हित में पटाखों के उपयोग को प्रतिबंधित करने की मांग पर जवाब मांगा था. 

ऐसे में कई राज्य सरकारें ने पटाखों पर बैन लगाने का फ़ैसला किया है. ताज़ा उदाहरण हरियाणा का है, जिसने राज्य भर में पटाखों को प्रतिबंधित करने का फ़ैसला किया है. 

आइये जानते हैं अब तक किन राज्य सरकारों ने पटाखों के इस्तेमाल पर रोक लगाई है.

1.हरियाणा

Source: dnaindia

हरियाणा सरकार ने शुक्रवार को राज्य में पटाखों की बिक्री और उत्पादन पर प्रतिबंध लगाने का फ़ैसला किया है. 

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि 'हमने एनसीआर और पंचकुला में पटाखों की बिक्री और इसके उत्पादन पर प्रतिबंध लगाने का फ़ैसला किया था. लेकिन अब हमने इसे राज्य भर में प्रतिबंधित करने का निर्णय लिया है.' 

2. राजस्थान

Source: nationalheraldindia

पटाखों से निकलने वाले ज़हरीले धुंए से लोगों को बचाने और कोरोना रोगियों को होने वाली परेशानी को देखते हुए पटाखों पर बैन लगाने वाला राजस्थान पहला राज्य था. इसके साथ ही आदेश का उल्लंघन करने वाले किसी भी व्यक्ति पर 2,000 रुपये का जुर्माना लगाने का भी एलान किया गया है.

3. ओडिशा

Source: dnaindia

राजस्थान के एक दिन बाद ओडिशा सरकार ने भी 10-30 नवंबर तक पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की. एक आदेश में ओडिशा के मुख्य सचिव ए.के. त्रिपाठी ने कहा, 'इस आदेश का उल्लंघन करने वाले किसी भी व्यक्ति को आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 और अन्य संबंधित कानूनों के प्रावधान के तहत दंडित किया जाएगा.’

4. सिक्किम

Source: newindianexpress

सिक्किम ने बुधवार को COVID-19 संकट को मद्देनज़र रखते हुए, पूरे राज्य में पटाखों के इस्तेमाल पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया. मुख्य सचिव एस.सी. गुप्ता ने आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के प्रावधानों के तहत एक आदेश जारी किया, ताकि अगले आदेश तक राज्य में पटाखों के इस्तेमाल पर रोक लगाई जा सके.

आदेश में कहा गया कि, भले ही राज्य में सक्रिय मामलों में गिरावट आई है और बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित मरीज़ रिकवर हुए हैं. फिर भी पटाखों के चलते वायु प्रदूषण में वृद्धि से रिकवर हो चुके मरीज़ और संक्रमित दोनों को ही परेशानी होगी.

5. दिल्ली

Source: thehindu

सर्दी का मौसम शुरू होते ही राजधानी दिल्ली में वायु प्रदूषण बढ़ने लगा है. इसके साथ ही राज्य में कोरोना वायरस के नए केसों में भी वृद्धि देखने को मिली है. ऐसे में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को 30 नवंबर तक सभी पटाखों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की.

6. पश्चिम बंगाल

Source: networkworld

गुरुवार को कलकत्ता उच्च न्यायालय ने भी राज्य में COVID-19 के प्रसार की जांच करने के लिए काली पूजा, दिवाली और छठ पूजा पर पटाखों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया. कोर्ट ने इस साल काली पूजा, दिवाली और छठ पूजा के दौरान पटाखों की बिक्री और उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है. साथ ही, इस साल कोई विसर्जन जुलूस भी निकाला जाएगा. 

7. महाराष्ट्र

Source: dnaindia

महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को दिवाली के दौरान COVID-19 के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए दिशानिर्देश जारी किए और नागरिकों से पटाखे फोड़ने से बचने की अपील की है. 

वहीं, मुंबई में बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) ने गुरुवार को घोषणा की है कि वो शहर में सार्वजनिक स्थानों पर पटाखे फोड़ना प्रतिबंधित करेगा. साथ ही, निर्देशों का उल्लंघन करने वालों को दंडित करने की चेतावनी भी दी गई.

8. कर्नाटक

Source: deccanherald

कर्नाटक ने भी कोरोना महामारी के बीच दिवाली के पहले पटाखों पर बैन लगाने का फ़ैसला किया है. राज्‍य के सीएम बीएस येदियुरप्‍पा ने बताया कि कोरोना वायरस की महामारी के चलते पटाखों पर प्रतिबंध लगाया है.

सीएम येदियुरप्‍पा ने कहा, 'कोरोना वायरस के कारण हमने पटाखों पर बैन लगाने का फ़ैसला किया है. इस पर चर्चा की गई है और आदेश जारी किया जा रहा है.’

बता दें, इस बीच हरियाणा और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों ने ‘आयातित’ यानि कि राज्य के बाहर से मंगाए गए पटाखों की बिक्री और वितरण पर प्रतिबंध लगा दिया है.