22 जुलाई इंदौर के मॉलवा मिल चौराहे पर फल और सब्ज़ी बेचने वाली एक महिला ने जब कोरोना को लेकर की जा रही व्यवस्थाओं पर सवाल उठाए, तो उसका जवाब किसी के पास नहीं था.

Source: news18

इंदौर के मॉलवा मिल चौराहे के पास रईसा अंसारी नाम की एक महिला ठेले पर फल और सब्ज़ी बेचने का काम करती है. इलाक़े में बार-बार लॉकडाउन लगने यहां के सब्ज़ी विक्रेताओं को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. इस वजह से उन्हें हर हफ़्ते जगह बदल बदलकर ठेला लगाना पड़ रहा है.

Source: news18

बुधवार को भी प्रशासन ने जब फल व सब्ज़ी विक्रेताओं पर कार्रवाई की तो इस मामले में रईसा अंसारी ने मीडिया के सामने अपनी नाराज़गी व्यक्त की. मीडिया से बातचीत के दौरान लोग उस वक़्त हैरान रह गए जब रईसा ने फ़र्राटेदार अंग्रेज़ी बोलकर प्रशासन की धज्जियां उड़ा दी.

आप भी सुनिए उसने क्या कहा?...

न्यूज़ 18 से बातचीत में रईसा ने कहा कि,पिछले तीन दशकों से मेरा परिवार इस इलाक़े में फल और सब्ज़ी बेचने का काम कर रहा है, लेकिन अब प्रशासन हमें यहां से खदेड़ने की कोशिश कर रहा है. हम इससे कार्रवाई से परेशान हैं. प्रशासन हमें ऐसी जगह ठेले लगाने को कह रहा है जहां लोग आना ही नहीं चाहते.

Source: news18
नगर पालिका के अधिकारी अपनी मर्ज़ी से कभी भी हमें दुकानें बंद करने के आदेश दे देते हैं. इसी चक्कर में ग्राहक भी नहीं आ पाते हैं. अगर हमें एक तय समय तक ठेले नहीं लगाने दिया गया तो बहुत सारे परिवार भूखे मर जायेंगे.  

कौन है रईसा अंसारी?

कौन है रईसा अंसारी? बताया जा रहा है कि रईसा अंसारी ने साल 2011 में इंदौर के 'देवी अहिल्या विश्वविद्यालय' से भौतिक विज्ञान में पीएचडी की डिग्री हासिल की थी. उन्होंने फ़िज़िक्स में मास्टर किया हुआ है. जब नौकरी नहीं मिली तो रईसा फल और सब्ज़ी बेचने लगीं.

Source: news18

मीडिया से बातचीत में नौकरी के सवाल पर रईसा का कहना था कि, मुझे कौन नौकरी देगा? क्योंकि मेरा नाम रायसा अंसारी है, कोई कॉलेज या शोध संस्थान मुझे नौकरी देने के लिए तैयार नहीं है. वैसे भी इन दिनों मुसलमानों से कोरोनो वायरस होने वाली धारणा आम हो गई है.

Source: news18

News18 से बातचीत में 'देवी अहिल्या विश्वविद्यालय' के भौतिकी विभाग में कार्यरत डॉ. राजकुमार चौहान ने बताया कि रईसा इसी कॉलेज की छात्रा थीं. वो पढ़ाई में बेहद होशियार थीं. वो बड़ी मेहनत से पढ़ाई किया करती थी, लेकिन मुझे यकीन नहीं हुआ कि वो अब अपने परिवार की दुकान पर काम करने लगी है. मुझे आज भी याद है कि रईसा ने मेरी बेटी की सगाई के लिए एक फ़्रूट बास्केट भी दी थी.