इन दिनों उत्तर भारत के पहाड़ी राज्यों जम्मू-कश्मीर, हिमाचल और उत्तराखंड में भारी बर्फ़बारी हो रही है. पिछले कुछ समय से लोगों का घर से बाहर निकलना मुश्किल हो रहा है. जो पर्यटक इन राज्यों में घूमने गए हुए थे वो भी भारी बर्फ़बारी से जहां-के तहां फंसे हुए हैं.  

Source: rajyasameeksha

गणतंत्र दिवस का मौका था, एक ओर पुरे हिंदुस्तान में लोग देशभक्ति के नशे में चूर थे. वहीं उत्तराखंड एक दूल्हा हैरान और परेशान था. ऐसा इसलिए क्योंकि इस दूल्हे ने अपनी दुल्हन तक पहुंचने के लिए वो किया जिसे देखकर आप भी कहेंगे, 'दूल्हा हो तो ऐसा हो'.   

Source: rajyasameeksha

ज़रा सोचिये भारी बर्फ़बारी के बीच किसी दूल्हे को बारात लेकर दुल्हन के घर पहुंचना हो तो कैसा नज़ारा होगा? ऐसा ही कुछ उत्तराखंड के इस दूल्हे के साथ भी हुआ. जब उसे भारी बर्फ़बारी के बीच मुसीबतों का सामना करते हुए 6 किमी पैदल चलकर दुल्हन के घर बारात लेकर जानी पड़ी.  

Source: rajyasameeksha

त्रियुगीनारायण गांव में रहने वाले रजनीश कुर्मांचली की शादी मक्कूमठ गांव की रहने वाली शिक्षा भंडारी के साथ हुई. बीते शुक्रवार को बारात रुद्रप्रयाग के त्रियुगीनारायण से मक्कूमठ के लिए घर से निकली. बारात घर कुछ ही दूर पहुंची थी कि पहाड़ी इलाका होने के चलते बर्फ़बारी शुरू हो गयी.  

वहीं पिछले 5 दिनों से सोनप्रयाग-त्रियुगीनारायण मोटर मार्ग बंद होने के चलते बर्फ़बारी में बारातियों को पैदल ही दुल्हन के गांव तक जाना पड़ा. मौका ख़ुशी का था ऊपर से बर्फ़बारी हो गई, बारातियों को इससे अच्छा मौका और कहां मिलता. इस दौरान न सिर्फ़ बारातियों, बल्कि दूल्हे ने बर्फ़बारी का ख़ूब मज़ा लिया और जमकर सेल्फ़ी खींची.   

Source: thehawk

शादी की रस्मों के दौरान भी बर्फ़बारी होती रही. दुल्हन को वापस लाते वक़्त भी यही स्थिति बनी रही. बारात रात 8 बजे दुल्हन को साथ लेकर वापस सोनप्रयाग पहुंची. इस दौरान दुल्हन भी पैदल चलकर अपने ससुराल त्रियुगीनारायण गांव पहुंची. उत्तराखंड में भारी बर्फ़बारी के कारण नव-विवाहित जोड़े को बर्फ़ के बीच मीलों का सफ़र पैदल तय करना पड़ा. 

Source: hindustantimes