स्टूडेंट लाइफ़ में आप सभी ने 'न्यूटन के गति के सिद्धांत' तो पढ़े ही होंगे. इंग्लिश मीडियम वालों के लिए 'Newton's law of Motion'. अब ठीक है. दरअसल, सर न्यूटन ने गति (Motion) के 3 नियमों के बारे में बताया था कि ये किस तरह से काम करते हैं.

Source: history

चलिए अब आगे बढ़ते हैं...  

इस बीच शिमला के शोधकर्ता अजय शर्मा ने कहा कि 'न्यूटन के गति के तीसरे नियम' को संशोधित किया जा सकता है क्योंकि ये 'अपूर्ण' है. मतलब सर न्यूटन को खुली चुनौती. अजय शर्मा का कहना है कि इस नियम के तहत क्रिया, प्रतिक्रिया के बराबर, कम या फिर अधिक हो सकती है. 

Source: amarujala

IANS बातचीत में अजय कहते हैं कि, मैंने 'न्यूटन के गति के तीसरे सिद्धांत' में कुछ ख़ामियां ढूंढ निकाली हैं. मुझे तीसरे सिद्धांत में संशोधन और इसमें पाए गए अनछुए पहलुओं को साबित करने का मौक़ा मिले तो मैं निश्चित रूप से भारत को विश्व गुरु बना सकता हूं.  

Source: brainly

अगर सरकार रिसर्च के लिए 10 से 12 लाख रुपये और लैब की सुविधा प्रदान करे तो मैं न्यूटन के गति तीसरे सिद्धांत चुनौती दे सकता हूं.  

कौन हैं अजय शर्मा? 

Source: thestatesman

हिमाचल प्रदेश के शिक्षा विभाग में सहायक निदेशक 57 वर्षीय अजय शर्मा पिछले 37 सालों से अपने खर्च पर आइंस्टीन, न्यूटन और आर्किमिडीज के सिद्धांतों पर रिसर्च कर रहे हैं. वो 'बियॉन्ड न्यूटन एंड आार्किमीडिज' नाम की एक किताब भी प्रकाशित कर चुके हैं. इस किताब में आधारभूत नियमों की आलोचनात्मक विवेचना की गई है.

Source: indiatimes

अजय शर्मा ने भौतिक विज्ञान की कुंजी कही जाने वाली न्यूटन की किताब 'द प्रिंसीपिया' का हवाला देते हुए कहा, इस किताब से पता चलता है कि 'न्यूटन के गति गति का दूसरा नियम' जिस रूप में स्कूलों में पढ़ाया जा रहा है, न्यूटन ने उस रूप में दिया ही नहीं था. न्यूटन की गति का पहला और तीसरा नियम वैसे ही पढ़ाए जा रहे हैं जैसे न्यूटन ने दिये थे.