उत्तर-प्रदेश के फ़ैज़ाबाद ज़िले में धार्मिक सौहार्द की मिसाल देखने को मिली है. गोसाईंगंज क्षेत्र के बेलारिखन गांव में हिंदुओं ने अपनी ज़मीन मुस्लिमों को कब्रिस्तान बनाने के लिए दान कर दी.

Source: millenniumpost

दरअसल, इस जमीन पर लंबे समय से विवाद चल रहा था. आख़िरकार बीजेपी के स्थानीय विधायक इंद्रप्रताप तिवारी और सूर्य कुमार महाराज ने इस ज़मीन के बाकी हिस्सेदारों के साथ मिलकर इसे मुस्लिमों के नाम कर दी.

सूर्य कुमार महाराज ने क़रीब 1.25 बिस्सा विवादित ज़मीन के आठ हिस्सेदारों के साथ मिलकर 20 जून को एक समझौते पर दस्तख़त कर इस विवाद को हमेशा के लिए सुलझा लिया है.

Source: latestly

इंडिया टुडे को सूर्य कुमार महाराज ने बताया कि रेकॉर्ड्स के मुताबिक़ ज़मीन हिंदुओं की थी लेकिन कभी-कभी मुस्लिम वहां अपनों को दफ़ना देते थे. इसी बात को लेकर पिछले कई सालों से दोनों समुदायों के बीच विवाद बना रहता था. अब इस कलह को सुलझा लिया गया है.

सब रजिस्ट्रार एस. बी. सिंह के मुताबिक़, 'ये हिंदुओं की ओर से मुस्लिमों को स्टैंप ड्यूटी के साथ दिया गया एक तोहफ़ा है. हिंदू-मुस्लिम भाईचारे को बढ़ावा देने के लिए बीजेपी के स्थानीय विधायक इंद्रप्रताप तिवारी ने ये नेक कदम उठाया है.

Source: devdiscourse

इंडिया टुडे को इंद्रप्रताप तिवारी ने बताया कि, हिंदू-मुस्लिम भाईचारा दशकों पुराना है. ये हिंदुओं की ओर से मुस्लिमों के लिए एक अनमोल तोहफ़ा है. उम्मीद करते हैं कि इस कदम से दोनों समुदायों के बीच संबंध सुधरेंगे.

गोसाईंगंज जामा मस्जिद के मुख्य इमाम हाजी अब्दुल हक़ कहते हैं कि, ये नेकी की अनोखी मिसाल है. इससे संदेश मिलता है कि दोनों समुदाय शांति और सौहार्द से रह सकते हैं.