कर्नाटक सरकार ने बीते सोमवार को एक चौंकाने वाला फैसला लिया.सरकार ने एक सीनियर IAS अफ़सर और डिपार्टमेंट ऑफ़ इन्फ़ोर्मेशन के प्रींसिपल सेक्रेटरी का बिना किसी नई पोस्टिंग के तबादला कर दिया. ये अफ़सर प्रवासी मज़दूरों को घर भेजने में अहम भूमिका निभा रहे थे.


New Indian Express की रिपोर्ट के मुताबिक़, अफ़सर पी.मणिवन्नन की जगह पर दूसरे आईएएस अफ़सर, महेश्वर.राव को कार्यभार संभालने भेजा गया. 

मणिवन्नन ने ने कई कोविड वॉलंटियर्स का एक ल बनाया था जो कोरोना वॉरियर्स के साथ काम कर रहे थे. News18 की रिपोर्ट के अनुसार change.org के द्वारा वॉलंटियर्स ने #BringBackManivannan कैंपेन भी शुरू किया.

Source: New Indian Express

मणिवन्नन मज़ूदरों को, मालिकों द्वारा पगार न दिये जाने के मामले पर आवाज़ उठा रहे थे. उन्होंने सरकार को ट्वीट करके कहा था कि वो सभी मालिकों को नोटिस भेज देंगे. कुछ सूत्रों का कहना है कि कुछ मंत्रियों को उनका ये रवैया पंसद नहीं आया.  

रिपोर्ट्स के मुताबिक़, बेंगलोर ऐम्प्लॉयर एसोशियएशन ने बी.एस. येदुरप्पा को चिट्ठी लिखकर को 'लेबर डिपार्टमेंट के प्रमुख को बदलने' की मांग भी की थी. उनका कहना था कि डिपार्टमेंट के सेक्रेटरी मज़दूरों को भड़का रहे हैं और मज़दूरों ने अपने मालिकों के ख़िलाफ़ शिकायतें दर्ज की है