भारत में कोरोना मरीज़ों की बढ़ती संख्या के बीच आईसीएमआर 15 अगस्त को कोरोना की पहली वैक्सीन लॉन्च कर सकती है. भारत बायोटेक की ओर से बनाई गई 'कोवैक्सीन' को आईसीएमआर से ह्यूमन ट्रायल की इजाज़त मिल गई है. इस बात का ख़ुलासा आईसीएमआर के एक पत्र से हुआ है.

Source: thequint

आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने पत्र में कहा है कि, 7 जुलाई से इस वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल शुरू किया जाएगा. अगर ह्यूमन ट्रायल में सब कुछ ठीक रहा तो आशा है कि 15 अगस्त को देश की जनता के लिए लॉन्च किया जा सकेगा. अगर ऐसा हुआ तो भारत बायोटेक की वैक्सीन मार्केट में सबसे पहले लॉन्च होगी.

बता दें कि इस वैक्सीन को तैयार करने में भारत बायोटेक और आईसीएमआर साझेदार हैं. इस पत्र को आईसीएमआर और सभी स्टेकहोल्डर (जिसमें एम्स के डॉक्टर भी शामिल हैं) ने जारी किया है.

बीते दिनों ही हैदराबाद की फ़ार्मा कंपनी 'भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड' ने दावा किया था कि उसे 'कोवैक्सीन' के फ़ेज़-1 और फ़ेज़-2 के ह्यूमन ट्रायल के लिए डीसीजीआई से हरी झंडी भी मिल गई है. ट्रायल का काम जुलाई के पहले हफ़्ते में शुरू किया जाएगा.

Source: prabhatkhabar

भारत बायोटेक को वैक्सीन बनाने में है महारथ हासिल

बता दें कि भारत बायोटेक को वैक्सीन बनाने में पुराना अनुभव है. कंपनी इससे पहले भी पोलियो, रेबीज, रोटावायरस, जापानी इनसेफ्लाइटिस, चिकनगुनिया और ज़ीका वायरस के लिए भी वैक्सीन बना चुकी है.

Source: indiatoday

इस बीच आईसीएमआर द्वारा एम्स समेत देश के 13 बड़े अस्पतालों को क्लीनिकल ट्रायल में तेज़ी लाने को कहा गया है, ताकि तय समय पर इस वैक्सीन को लॉन्च किया जा सके.

Source: bhaskar

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक़, देश मेंकोरोना की संख्या बढ़कर 6,28,205 जो गई है. इस दौरान 18,241 लोगों की मौत हो चुकी है. देश में इस समय कोरोना के 2,29,590 एक्टिव केस हैं. जबकि 3,80,374 मरीज़ रिकवर होकर घर लौट चुके हैं.