चुनाव की तारीख नज़दीक आते ही नेता लोगों को अपनी तरफ़ आकर्षित करने के लिए नए-नए जुमले और कैंपेन रचते हैं. तमिलनाडु के एक निर्दलीय नेता भी लोगों को अपनी ओर आर्कषित करने के लिए कुछ नया करने की सोची. इसलिए वो अपना नामांकन पत्र भरने 25 हज़ार के चिल्लर लेकर पहुंच गए. ये वो रकम है, जो हर प्रत्याशी को ज़मानत के रूप में जमा करवानी पड़ती है.

Amma Makkal National Party (AMNP) से ताल्लुक रखने वाले इस शख़्स का नाम है कुप्पजी दावोस. ये साउथ चेन्नई लोकसभा सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. नामांकन भरने के लिए वो साउथ चेन्नई के निर्वाचन आयोग के दफ़्तर पहुंचे थे.

यहां उन्होंने नामांकन भरते समय जमानत के रूप में 25 हज़ार रुपये जमा कराए. ये रकम चिल्लर यानी 1,2,5 और 10 रुपये के सिक्कों में थी. इसे वो 13 अलग-अलग बर्तनों जैसे थाली, कढ़ाई आदि में लेकर आए थे.

जिस सीट से कुप्पजी दावोस ने नॉमिनेशन भरा है, फ़िलहाल वहां से AIADMK के टी. राधाकृष्णन सांसद हैं. तमिलनाडु में 18 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के लिए वोटिंग होगी.

फ़्री की पब्लिसिटी पाने के लिए ये पैंतरा ठीक लगता है, लेकिन इससे चुनाव आयोग के कर्मचारियों का काफ़ी समय बर्बाद हो गया होगा. चिल्लर भी भारतीय मुद्रा है, मगर इसका मतलब ये नहीं कि आप नियमों का इस्तेमाल उसी संस्था के विरुद्ध करेंगे.