देश में 19 मई को सातवें चरण का चुनाव होना बाकी है. इस तारीख को 59 सीटों पर वोटिंग कराई जाएगी.

Source: Yeni Şafak

जब तक वोटिंग संपन्न नहीं हो जाती, चुनाव आयोग के नियमों के द्वारा कोई मीडिया हाउस एग्ज़िट पोल नहीं दिखा सकता. ऐसा करना आचार संहिता का उल्लंघन माना जाता है.

इस नियम की मुख्य वजह है कि मीडिया द्वारा दिखाए गए अनुमानित आंकड़ों के देख कर वोटर भ्रमित हो सकता है और इससे किसी पार्टी को फ़ायदा या नुकसान पहुंच सकता है.

देश के सभी प्रमुख मीडिया हाउस इस नियम का पालन करते आ रहे हैं लेकिन कल एक ग़लती हो गई. इंडिया टुडे चैनल ने कल एग्ज़िट पोल के आंकड़े दिखा दिए (ग़लती से).

Source: India Today

इंडिया टुडे के राहुल कंवल प्रोमो वीडियो में दर्शकों को बता रहे थे कि 19 मई को चुनाव के बाद वो एग्ज़िट पोल लेकर आएंगे. इस दौरान कैमरा इस कंप्युटर स्क्रीन पर फ़ोकस हो जाता है(ग़लती से) जिस पर एग्ज़िट पोल वाले शो के लिए ग्राफ़िक्स बन रहे थे और वहां हमे अनुमानित सीटें दिखाई देती हैं, जो इंडिया टुडे को अपने एग्ज़िट पोल में पता चली है.

Source: Krishan Yadav
Source: Krishan Yadav

चुनाव आयोग ने ट्विटर इंडिया को ये आदेश दिया है कि वो अपने प्लैटफ़ॉर्म से उन सभी पोस्ट को हटा दे, जिन पर एग्ज़िट पोल चल रहे हैं. ऐसे में देखना होगा कि चुनाव आयोग की नज़र इंडिया टुडे की इस ग़लती पर पड़ती है या नहीं.