10 सितंबर को राफ़ेल फ़ाइटर प्लेन्स औपचारिक रूप से इंडियन एयरफ़ोर्स का हिस्सा बने थे. तब शायद ही किसी ने सोचा होगा कि इस लड़ाकू विमान को कोई भारतीय महिला पायलेट उड़ाएगी. लेकिन बहुत जल्दी है ये बात सच होने जा रही है. ख़बर आई है कि भारतीय वायुसेना में तैनात 10 महिला पायलेट्स में से एक को इसे उड़ाने की ट्रेनिंग दी जा रही है. 

indianexpress

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, Golden Arrows जो राफ़ेल लड़ाकू विमानों का स्क्वाड्रन है उसमें एक महिला पायलेट को भी शामिल किया जाएगा. उसकी कनवर्ज़न ट्रेनिंग इन दिनों भारतीय वायुसेना में जारी है. 

indianexpress

भारतीय वायुसेना में सेवारत महिला अधिकारियों की कुल संख्या 1,875 है. इनमें 10 एक्टिव महिला पायलेट्स और 18 वुमेन नेवीगेटर्स हैं. ये सभी महिला पायलेट्स अभी तक मिग-21 फ़ाइटर जेट्स को उड़ा रही थीं. अब इनमें से एक राफ़ेल को उड़ाएगी. कनवर्ज़न ट्रेनिंग उस पायलेट को दी जाती है जिसे एक फ़ाइटर प्लेन को उड़ाने के बाद नए को उड़ाने के लिए तैयार किया जाता है. 

ग़ौरतलब है कि कारगिल युद्ध में पहली बार एयरफ़ोर्स ने महिला पायलट्स को एक्टिव वॉर ऑपरेशंस का हिस्‍सा बनाया था. साल 2016 में सरकार ने महिलाओं को फ़ाइटर फ़्लाइंग की अनुमति भी दे दी थी. तब से अब तक एयरफ़ोर्स में 10 महिला पायलट्स कमिशन की गई हैं. 

dw

पिछले सप्ताह रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक ने संसद को बताया कि महिला लड़ाकू विमान पायलेट्स को रणनीतिक ज़रूरतों और परिचालन आवश्यकताओं के हिसाब से भारतीय वायुसेना में शामिल और तैनात किया जाता है.