कनाडा में एक भारतीय मूल के शख़्स सोशल मीडिया पर एंटी-मुस्लिम पोस्ट शेयर की थी. इसके बाद उसे अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा. उसने स्थानीय प्रशासन के एक नए क़ानून का विरोध किया था, जिसमें मुस्लिम लोगों को भी अज़ान के लिए लॉउड स्पीकर लगाने की छूट की इजाज़त दी गई थी.

इस नए क़ानून के बारे में कनाडा के Brampton शहर के मेयर Patrick Brown ने ट्वीट करते हुए लिखा- 'ध्वनि प्रदूषण को लेकर जो नियम थे वो 1984 में बनाए गए थे. इसमें चर्च के घंटे की आवाज़ को छूट दी गई थी. हम साल 2020 में हैं और इससे अन्य धर्मों के लोगों भी छूट दी जानी चाहिए. इसलिए मुस्लिम समुदाय के लोग भी सूर्यास्त के समय अज़ान के लिए लॉउड स्पीकर का यूज कर सकते हैं.' 

इनके इस ट्वीट पर भारतीय मूल के एक शख़्स रवि हुड्डा ने आपत्ति जताते हुए ट्विटर पर लिखा-'आगे क्या? अब ऊंट और बकरी सवार लोगों के लिए अलग से लेन बनेंगी. घर में जानवरों को मारने की इजाज़त दी जाएगी. सभी महिलाओं को ख़ुद को सिर से पैर तक ढकना होगा. ये सब किस लिए कुछ लोगों को ख़ुश करने और उनके वोट हासिल करने के लिए.'

उनके इस ट्वीट पर सोशल मीडिया पर बवाल हो गया. कनाडा के लोग उदारवादी सोच के लिए जाने जाते हैं. वो ऐसी सोच का समर्थन नहीं, बल्कि जमकर विरोध करते हैं. हुआ भी ऐसा ही. लोगों ने रवि हुड्डा का जमकर विरोध किया. यहां तक कि वो उनके बारे में जानकारी निकाल कर उन्हें जॉब से निकालने के लिए कहने लगे. यहां देखिए लोग क्या कह रहे हैं;

रवि हुड्डा ने अपना ये ट्वीट फ़िलहाल डिलीट कर दिया है और अपने अकाउंट पर प्राइवेसी लगा दी है. वहीं दूसरी तरफ Peel District School Board जिसके रवि सदस्य थे, उन्होंने भी उन्हें काउंसिल के पद से हटा दिया.

इसके साथ ही रवि जिस रियल स्टेट कंपनी(RE/MAX) के साथ काम करते थे, उसने भी तत्काल रूप से उनका अनुबंध समाप्त करने की घोषणा ट्विटर पर की है.

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.