इस बार हैदराबाद का गणेश उत्सव बहुत ही ख़ास होने वाला है. वहां पर इस बार देश की सबसे ऊंची गणेश की प्रतिमा जो बनाई जा रही है. खैरताबाद की गणेश उत्सव कमेटी ने इस बात की जानकारी एनआई से शेयर की है. उनके मुताबिक, इस बार गणेश भगवान की प्रतिमा 61 फ़ीट की होगी, जो देश की सबसे ऊंची गणेश की प्रतिमा होगी.

एनआई से इस बारे में बात करते हुए कमेटी के चेयरमेन सिंगारी सुदर्शन मुदिराज ने बताया कि इस बार गणेश जी की मूर्ती को उनके द्वादशी महागणपति अवतार में बनाया गया है. ऐसी मान्यता है कि उनका ये अवतार आशीर्वाद के रूप में अच्छी जलवायु और वर्षा प्रदान करता है.

Indias tallest idol of Lord Ganesh
Source: hindustantimes
उन्होंने आगे कहा- इस मंडप की शुरुआत मेरे बड़े भाई एस. शंकररैया ने की थी, जो एक स्वतंत्रता सेनानी थे. तभी से ही गणेश की मूर्ती की ऊंचाई बढ़ती जा रही है. साल 2014 में इसकी ऊंचाई 60 फ़ीट तक पहुंच गई थी. लेकिन उसके बाद से हम मूर्ति की ऊंचाई कम करते रहे. लेकिन इस साल हमने इसे बढ़ाकर 61 फ़ीट करने का फ़ैसला किया है.
Indias tallest idol of Lord Ganesh
Source: twitter

मुदिराज ने बताया कि इस मूर्ति को बनाने में 150 वर्कर क़रीब 4 महीने से लगे थे. इसे बनाने में क़रीब 1 करोड़ रुपये का ख़र्च आया है. मूर्ति को बनाने के लिए ख़ासतौर पर कारपेंटर और अन्य कारिगर पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और तमिलनाडु से बुलाए गए थे.

गणेश चतुर्थी को इस मूर्ति का पूजा-पाठ के साथ उद्घाटन किया जाएगा. इस समारोह में राज्य के राज्यपाल ESL Narasimhan और उनकी पत्नी भी मौजूद होंगी. मुदिराज ने बताया कि इस समारोह को GHMC, HMDA, बिजली विभाग, पुलिस विभाग जैसे सरकारी विभाग सपोर्ट कर रहे हैं.

Indias tallest idol of Lord Ganesh
Source: twitter

मुदिराज ने कहा कि ‘हम भाग्यशाली हैं, जो गणेश की प्रतिमा को गणेश चतुर्थी से पहले ही तैयार करने में कामयाब रहे. एक-दो दिन में उसके पास लगे बांस-बल्लियों को हटा दिया जाएगा. ये मूर्ती क़रीब 50 टन की होगी. इसमें गणेश के 12 अवतारों के चेहरे बनाए गए हैं. उनके 24 हाथों में अलग-अलग हथियार हैं और उन्हें 7 घोड़ों वाले रथ पर सवार दिखाया गया है.’

Source: ndtv

खैरताबाद के इस गणेश उत्सव को देखने दूर-दूर से लोग आते हैं. इसके लिए कमेटी ने उचित व्यवस्था भी की है. पीने के पानी और शौचालय के साथ ही इस बार 40 सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं. कमेटी का कहना है कि इस बार यहां 4-5 लाख श्रद्धालुओं की आने की उम्मीद है.