Items Imports From China in India: भारत आज अपने रोज़ाना की ज़रूरत का 80 फ़ीसदी सामान चीन से आयात (Items Imports From China in India) करता है. आज हालात ये बन गये हैं कि औसत भारतीय सुबह उठने से लेकर रात सोने तक ना जाने कितने चीन में निर्मित सामानों का इस्तेमाल करता है. बॉर्डर पर तनाव के बावजूद साल 2021 में चीन के साथ भारत का व्यापार 125.6 अरब डॉलर तक पहुंच गया था. ये पहली बार था जब व्यापार 100 अरब डॉलर को पार कर गया. चीन से भारत का आयात 97.5 बिलियन डॉलर था, जबकि निर्यात 28.1 बिलियन डॉलर तक पहुंच गया जो कि अपने आप में एक रिकॉर्ड है. इसी से अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि आज भारतीय बाज़ार किस तरह चीनी सामानों से पटे पड़े हैं.

ये भी पढ़ें: सबसे बड़ी आर्मी है चीन के पास. जानिए चीनी सेना के कितने सक्रिय अंग हैं और क्या है उनकी भूमिका

edition

दीवाली के मौके पर भगवानों की मूर्तियों हों या सजावट का सामान, होली पर पिचकारी से लेकर रंगों तक, आज भारत में हर छोटी सी छोटी चीज़ चीन से आयात हो रही है. इतना ही नहीं अब तो खाने पीने की चीज़ें भी चीन से ही आयात हो रही हैं. भारत में मैन्युफै़क्चरिंग कॉस्ट महंगी होने के चलते अधिकतर व्यापारियों के लिए चीन से सामान मंगाना सस्ता पड़ता है. चीन से आयात वस्तुएं (Items Imports From China in India) सस्ती होने के चलते भारतीय इन्हें हाथों हाथ ख़रीदते हैं और व्यापारियों को इससे अच्छा ख़ासा मुनाफ़ा हो जाता है. इसी के चलते पिछले दो दशकों में भारत की कई छोटी-बड़ी मैन्युफै़क्चरिंग कंपनियां बंद हो चुकी हैं.

चलिए जानते हैं चीन से आयात होने वाली वो कौन-कौन सी चीज़ें (Items Imports From China in India) हैं जिन्हें हर भारतीय इस्तेमाल करता है-

1- इलेक्ट्रॉनिक उपकरण

चीन से हर साल बड़े पैमाने पर स्मार्ट फोन, टीवी किट, डिस्प्ले बोर्ड, एसडी कार्ड, मेमोरी कार्ड, लैपटॉप, पेन ड्राइव, साउंड रिकॉर्डर्स के साथ एलईडी बोर्ड इंपोर्ट किये जाते हैं. इसमें वायरलेस और कम्युनिकेशन उपकरण भी शामिल हैं. इनका सालाना कारोबार 21.1 बिलियन डॉलर (2016 का आंकड़ा) का है.

ejet

2- खेल का सामान

चीन से हर साल बड़ी मात्रा में करोड़ों डॉलर का ‘खेल का सामान और खेल से जुड़े उपकरण’ भी इंपोर्ट किये जाते हैं. भारत में आज ‘क्रिकेट बैट’ से लेकर ‘टेनिस रैकेट’ तक हर सामान चीन से आ रहा है.

mrcheckout

3- बच्चों के खिलौने

भारत में बिकने वाले 90 प्रतिशत ‘बच्चों के खिलौने’ चीन से आयात किये जाते हैं. इन खिलौनों में जो प्लास्टिक इस्तेमाल किया जाता है वो बेहद हानिकारक भी है, बावजूद इसके चीन के लिए भारत में ये सबसे बड़ा मुनाफ़े वाला फ़ील्ड है.

indiatoday

Items Imports From China in India

4- जूते-चप्पल और कपड़े

भारत में आपको Adidas, Nike, Puma समेत जितने भी बड़े ब्रैंड के कॉपी (नकली) जूते-चप्पल दिखाई देते हैं. वो सभी चीन से आयात किये जाते हैं. इसके अलावा हर तरह के कपडे भी आज चीन से आयात हो रहे हैं.

qz.com

ये भी पढ़ें: भारत-चीन युद्ध की कुछ तस्वीरें, जो न सिर्फ़ बोलती हैं बल्कि चीख-चीखकर सवाल खड़े करती हैं

5- मेडिकल और सर्जिकल उपकरण

भारत आज चीन पर इस कदर निर्भर हो चुका है कि मेडिकल उपकरण भी चीन से ही आयात किये जा रहे हैं. आपरेशन थिएटर में इस्तेमाल होने वाले सर्जिकल उपकरण पहले यूरोप व अमेरिका से आयात किये जाते थे, लेकिन सस्ते सामान के चक्कर में हम अपने स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं. 

indiamart

6- आयरन और स्टील मशीनरी

पिछले कुछ सालों से चीन से भारत में केवल छोटा-मोटा सामान ही नहीं, बल्कि स्टील के साथ लोहे से बनी बड़ी से लेकर छोटी मशीनें बड़े पैमाने पर आयात हो रही हैं. इससे पहले ये मशीनरी यूरोप या अमेरिका से आती थी. 

markets

Items Imports From China in India

7- आर्गनिक केमिकल्स

भारतीय किसान आज अच्छी फ़सल के चक्कर में कई तरह के हानिकारक केमिकल्स इस्तेमाल कर रहे हैं. ये नाम मात्र के ऑर्गनिक केमिकल्स स्वास्थ्य के लिए बेहद हानिकारक माने जाते हैं. इसके अलावा कई अन्य तरह के केमिकल्स भी चीन से ही आयात किये जाते हैं.

indiamart

8- फर्नीचर और सजावट का सामान

भारतीय बाज़ारों में आज जितने भी फैंसी आइटम्स दिखाई देते हैं उनमें से 90 प्रतिशत चीन से आयात किये जाते हैं. इनमें प्लास्टिक फर्नीचर भी शामिल है. इस दौरान आपको सस्ता से लेकर महंगा सामान आसानी से मिल जाएगा.  

chinaimport

9- प्लास्टिक का सामान

भारत में आज चीन से बड़ी मात्रा में प्लास्टिक और प्लास्टिक का सामान भी आयात हो रहा है. भारतीय घरों से लेकर आफ़िसों तक हर जगह बड़े पैमाने पर चीन का प्लास्टिक आइटम्स इस्तेमाल किया जा रहा है. ये प्लास्टिक सेहत के हिसाब से बेहद हानिकारक भी माना जा रहा है. 

chinatoindialogistics

Items Imports From China

10- हेवी मशीनरी

भारत में पहले आमतौर पर हेवी मशीनरी जर्मनी, फ्रांस और यूरोपीय देशों आयात होते थे, लेकिन अब ये ज्यादातर चीन से आते हैं. इसमें सभी प्रकार की मशीनों, मशीनों से जुड़े सामान, रेल के सामान, न्यूक्लियर रिएक्टर, बॉयलर, पॉवर जेनरेशन उपकरण और मशीनरी पार्ट भी हैं. इसमें वाहन और कार एसेसरीज भी शामिल हैं.

heavyquipmag

आज भारत का उपभोक्ता ज़रूरत से ज़्यादा चीन से आयात सामानों (Items Imports From China) पर निर्भर हो चुका है. इसलिए ये सोचना वाकई कठिन है कि अगर चीन से आने वाले सामानों पर पूरी तरह रोक लगा दी गई तो क्या होगा?