आज से पर्यटक कश्मीर घाटी की ख़ूबसूरत वादियों का मज़ा ले सकेंगे. आतंकी हमले के अलर्ट के बाद 2 अगस्त को सभी पर्यटकों को कश्मीर छोड़ने के निर्देश दिए गए थे. अब 70 दिन बाद कश्मीर में पर्यटकों के आने पर लगी इस रोक को हटा लिया गया है.

Source: naidunia

सरकार ने आज से पाबंदियों को हटाते हुए सैलानियों के लिए ख़ास इंतज़ाम करने की गाइडलाइन जारी की. कश्मीर आने वाले पर्यटकों की मदद सरकार करेगी और उन्हें आवश्यक सुविधाएं भी मुहैया कराई जाएंगी.

सोमवार को राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सुरक्षा के मुद्दे पर सलाहकारों और चीफ़ सेक्रेटरी के साथ हुई बैठक के बाद इसकी घोषणा की. इसके साथ ही घाटी में सभी स्कूल और कॉलेजे भी खुल गए हैं. हालांकि, पहले दिन शिक्षण संस्थानों में कम छात्र-छात्राएं नजर आए.

Source: natgeotraveller

हालात सामान्य होते दुकानदारों ने आतंकियों और अलगाववादियों के कश्मीर बंद के फ़रमान को ठेंगा दिखाते हुए सुबह 9 बजे से ही अपनी दुकानें खोल दी थीं. हालांकि, इस दौरान संवेदनशील इलाकों में प्रशासन ने सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं. वहीं सभी सरकारी कार्यालयों व बैंकों में भी सामान्य दिनों की तरह कामकाज जारी है.

जानकारी दे दें कि घाटी में सार्वजनिक वाहनों की आवाजाही भी शुरू हो गई है. टीआरसी में 25 अतिरिक्त काउंटर खोले गए हैं. प्रत्येक ज़िले में लोगों की सुविधा के लिए 25 इंटरनेट कियोस्क स्थापित किए गए हैं. सरकारी कार्यालयों में उपस्थिति पर भी नज़र रखी जा रही है.

Source: finance

इसके साथ ही हिरासत में लिए गए तीन नेताओं को आज रिहा कर दिया जाएगा. बुधवार रात राज्य प्रशासन के अधिकारियों ने जानकारी दी कि पीडीपी नेता यावर मीर, पीपल्स कांफ़्रेंस के नेता शोएब लोन और नेशनल कांफ़्रेंस के कार्यकर्ता नूर मोहम्मद को एक शपथ पत्र पर हस्ताक्षर करने के अलावा अलग-अलग आधार पर रिहा किया जाएगा.