Swiggy, Zomato, UberEats और FoodPanda जैसे फ़ूड डिलीवरी Apps की वजह लोगों के बीच ऑनलाइन फ़ूड डिलीवरी का क्रेज़ बढ़ता जा रहा है. कम समय और कम पैसों में ये प्लेटफ़ॉर्म्स लोगों तक अच्छा खाना पहुंचाने का वादा करते हैं. यही नहीं, आंधी-तूफ़ान, सर्दी-गर्मी या फिर बारिश ही क्यों न हों, इनके डिलीवरी Executive हर कीमत पर हमार ऑर्डर समय पर पहुंचाने की कोशिश करते हैं. दरवाज़े पर आये इन डिलीवरी बॉय को देख कर अकसर मन में ये भी ख़्याल आता है कि ये कितने कम पैसों में इतनी मेहनत कर रहे हैं.

Source: envato

वैसे आपको इनकी सैलरी कोई आइडिया है?

हाल ही में एक Reddit यूज़र ने गोवा में डिलीवरी बॉय के लिये निकली वेकेंसी का स्क्रीनशॉट शेयर किया. इस स्क्रीनशॉट के ज़रिये यूज़र ने ये बताने की कोशिश की है कि एक शिक्षक की तुलना में डिलीवरी बॉय को ज़्यादा सैलरी दी जाती है. नीचे दिये गये स्क्रीनशॉट में आप देख सकते हैं कि एक शिक्षक के लिये 8 से 10 हज़ार देने की पेशकश की गई है, तो वहीं फ़ूड डिलीवरी बॉय के लिये 22,000 रुपये दिये जा रहे हैं.

इस पोस्ट के साथ ही इस यूज़र ने लिखा, 'और फिर वो कहते हैं कि शिक्षा की गुणवत्ता नीचे जा रही है, लेकिन स्पष्ट रूप से युवा दिमाग़ को आकार देना उतना महत्वपूर्ण नहीं है, जितना कि भोजन पहुंचाना.'

इस पोस्ट पर सोशल मीडिया यूज़र तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं भी दे रहे हैं:

किसी का कहना है कि इंडिया में टीचर्स से कु्त्तों की तरह काम कराया जाता है, तो किसी ने लिखा कि डिलीवरी बॉय की सैलरी उसकी वर्तमान सैलरी की तुलना में काफ़ी ज़्यादा है. वहीं कुछ लोगों का ये भी कहना है कि डिलीवरी बॉय को इतनी सैलरी इसलिए मिलती है, क्योंकि वो समय पर अपना टारगेट पूरा करते हैं.

इसके अलावा कुछ स्टार्ट अप छात्रों को भी वीकेंड पर नौकरी का ऑफ़र दे रहे हैं, जिसके लिये उन्हें करीब 1100 रुपये दिये जाते हैं. रिपोर्ट के अनुसार, दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद और बेंगलुरु जैसे शहरों में डिलीवरी करने वालों की अधिक डिमांड है, जिसके लिये उन्हें प्रतिदिन इंसेंटिव सहित 80 से 120 रुपये दिये जाते हैं.